कहते है लोग ये इश्क़

कहते है लोग ये इश्क़ top post

कहते है लोग,ये इश्क़ आग का दरिया होता है |
कैसे कहे,के इश्क़,किसिके दिल तक पहुँचने का ज़रिया होता है ||

कहते है लोग,ये इश्क़ एक आँधी लाती है |
हमे तो इश्क़ से,गिली मिट्टी की खुशबू,सौन्धि सौन्धि आती है ||

कहते है लोग,ये इश्क़ समंदर से भी गहरा होता है |
कैसे बताए,के इश्क़ में,हर पल एक नया सवेरा होता है ||

कहते है लोग,के इश्क़ में,कदम कदम पर संभालना होता है |
कैसे बताए,के इश्क़ में, दो दिलो को मिलकर,एक राह पर चलना होता है ||

कहते है लोग,के इश्क़ में,माँगनी होती एक मन्नत है |
कैसे समझाउ, के इश्क़ करना , हमारे लिए एक जन्नत है ||

कहते है लोग,ये इश्क़,किसी और की अमानत होती है |
कैसे कहे सबसे,ये इश्क़,खुदा की दी हुई एक नेमत होती है ||

8 टिप्पणियाँ

  1. दिसम्बर 3, 2007 at 1:11 अपराह्न

    पसंद आई आपकी इश्क की नई परिभाषा ।

  2. दिसम्बर 3, 2007 at 4:47 अपराह्न

    Use ishQ kya hai patta nahin
    Kabhi shaama par vo jala nahin

    Devi

  3. दिसम्बर 3, 2007 at 5:15 अपराह्न

    बहुत खूब…..अच्छा लगा आपको पढकर…

    यूँ ही लिखती रहें

  4. दिसम्बर 4, 2007 at 5:20 पूर्वाह्न

    कहते है लोग,ये इश्क़ एक आँधी लाती है |
    हमे तो इश्क़ से,गिली मिट्टी की खुशबू,सौन्धि सौन्धि आती है ||

    bahut khoob .
    sahi kahaa aapne .

    likhati rahein

  5. ravi bahaar said,

    जनवरी 28, 2008 at 2:55 अपराह्न

    aap ki ye lines bahut achhi hain magar meri aap se guzarish hai inhen sirf shayri kahna ghazal mat kahna kionke kala ki nazar se yeh bahut kamzor hain. baqi khyaal bahut achha hain. tasavvur bahut achha hai

  6. mehhekk said,

    जनवरी 28, 2008 at 3:13 अपराह्न

    shukriya raviji,humne ise sirf shayari hi kaha hai ,gazal ka tag is mein nahi hai.kala ke bare mein hume bahut jankari nahi hai.hum to wahi likhte hai,jo dil se nikalta hai.

  7. Rewa said,

    फ़रवरी 11, 2008 at 4:38 पूर्वाह्न

    कहते है लोग,ये इश्क़ आग का दरिया होता है |
    कैसे कहे,के इश्क़,किसिके दिल तक पहुँचने का ज़रिया होता है ||

    Bilkul sahi likha hai….bahut khoob.

  8. niki said,

    अप्रैल 18, 2008 at 9:06 पूर्वाह्न

    mast shayri hai, padh ke achcha laga,not best but better kyuki aap isse bhi achcha likh sakte hai


एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: