वो तुम ही तो हो

वो तुम ही तो हो

रहता है जो इन झील सी निगाओं में
बन कर ख्वाब मेरे,वो तुम ही तो हो |

नाम लेती हूँ जिसका मेरी सांसो में
ज़िंदा हूँ मैं जिस कारण,वो तुम ही तो हो |

सुनना चाहूँ मैं हर पल अपने कनखियो से
जो मधुर मीठि वाणी,वो तुम ही तो हो |

जो दौड़ता है मेरी नस नस में लाल रंग
पहुचता है दिल तक मेरे,वो तुम ही तो हो |

किसी भी मोड़ पर,ज़िंदगी की राहों में
जो शक्स मिलता है मुझे,वो तुम ही तो हो |

जो बहता है बनके गीत मेरी अधरो पर
वो नज़्म खालिस,वो तुम ही तो हो |

जो चलता है हर वक़्त साथ साथ मेरे
वो अपनासा साया , वो तुम ही तो हो |

पहना है जिस्म पर मेरी जो शृंगार
वो खूबसूरत गहना,वो तुम ही तो हो |

जिस अज़ीज़ के बिना मैं हूँ अधूरी अधूरी
मुझे सपूर्ण करनेवाले,वो तुम ही तो हो |

जिसे माँगा है हमने खुदा से इबादत में
वो दुआ हमारी,वो तुम ही तो हो |

top post

3 टिप्पणियाँ

  1. दिसम्बर 14, 2007 at 2:53 अपराह्न

    जो दौड़ता है मेरी नस नस में लाल रंग
    पहुचता है दिल तक मेरे,वो तुम ही तो हो |…waaah dil chu liya… aapne

    बहुत खूब… आनन्द मिला पढ कर….

    युँ गुजर्ती हुँ किसी मन्दिर से मस्जिद से,
    जिसके सजदे करती हुँ ,, वो तुम ही तो हो |
    गम के साये में जब बिखरती हुँ मैं ,
    समेट मुझको उठाता हैं जो ,वो तुम ही तो हो

  2. Rewa Smriti said,

    मार्च 17, 2008 at 5:42 पूर्वाह्न

    जो दौड़ता है मेरी नस नस में लाल रंग
    पहुचता है दिल तक मेरे,वो तुम ही तो हो |

    bahut khoob ati sunder…!

  3. reena jaiswal said,

    मार्च 5, 2013 at 8:45 पूर्वाह्न

    युँ गुजर्ती हुँ किसी मन्दिर से मस्जिद से,
    जिसके सजदे करती हुँ ,, वो तुम ही तो हो |
    गम के साये में जब बिखरती हुँ मैं ,
    समेट मुझको उठाता हैं जो ,वो तुम ही तो हो
    BEAUTIFULL MEHAK,
    DIL CHU LIYA


एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: