कल कोई और होगा

कल कोई और होगा

जिस मा ने तुम्हे जनम दिया है
उसको तुमने क्या सिला दिया है
तेरी होठो पर  जो मुस्कान सजाई
उन नयनो को क्यूँ नम किया है
गहेरी  ममता को बटोर ले आज
वरना उस आँचल का हकदार
कल कोई और होगा |

जिस जमी ने तुम्हे उड़ना सिखाया
तूने क्यूँ  अब  उसको  ही   भुलाया
जब तुम गिरते और ठोकर   खाते 
तेरी पँखो में ज़मीने बल  दिलाया
विशाल जमी की  कद्र  कर  आज
वरना उस पर कदम रखनेवाला
कल कोई और होगा |

 अब तुम्हें सारी उचाईया है हासिल
चाही जो तुमने  पहुँचे उस   मंज़िल
जिन चोटियों पर तुम गर्वसे खड़े हो
उन पहाड़ो का क्यूँ तुमने तोड़ा दिल
उनका हाथ थाम कर चलो आज
वरना उस शिखर पर चढ़नेवाला
कल कोई और होगा |

5 टिप्पणियाँ

  1. mahendra mishra said,

    जनवरी 8, 2008 at 9:48 पूर्वाह्न

    साधुवाद

  2. paramjitbali said,

    जनवरी 8, 2008 at 10:49 पूर्वाह्न

    सुन्दर रचना है।

    जिस माँ ने तुम्हे जनम दिया है
    उसको तुमने क्या सिला दिया है
    तेरी होठो पर जो मुस्कान सजाई
    उन नयनो को क्यूँ नम किया है

  3. mehhekk said,

    जनवरी 8, 2008 at 12:48 अपराह्न

    shukran mishraji aur paramjitbaliji,abhari hun.

  4. Rewa said,

    फ़रवरी 11, 2008 at 4:35 पूर्वाह्न

    जिन चोटियों पर तुम गर्वसे खड़े हो
    उन पहाड़ो का क्यूँ तुमने तोड़ा दिल
    उनका हाथ थाम कर चलो आज
    वरना उस शिखर पर चढ़नेवाला
    कल कोई और होगा |

    Beautiful wors….. kise pata kal ho na ho….

  5. rohit said,

    जून 11, 2008 at 6:50 अपराह्न

    mehak
    gr8, not only mom, it’s true for father too…..jisne jane kitne raate bitaye hongi
    jane kitne sapne bune honge,,,jane kitne garmi me paseena bahaya hoga….jane kitne sardi thithurte kaati hogi,,,,jane kitne dard sah ker bhi kamaya hoga…jane kitne armano se tuze kandhe per bithaya hoga..jane kitne
    ……………..

    mehak thaks for this writing
    rohit


एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: