ग़ज़लो की दीवानी

booknfeather.gif 

   ग़ज़लो की दीवानी

आज कल पग पग निशानी
मैं बस ग़ज़ल सोचती जाउ
किसी पल तुम देखो मुझको
मैं बस ग़ज़ल तलाशती पाउ |

ना जाने ये कैसा खुमार है
मुझे इससे कब इनकार है
ग़ज़ल  बन रहा मेरा जीवन 
मुझे इससे अब इकरार है |

जिस गली भी लगा शामियाना
तखलूस हो रही ग़ज़ल जहा पर
कही और ढूँढने की नही ज़रूरत
मुझे भी तुम पाओगे वहा पर |

दिल से सुनती हूँ ग़ज़ल को
दिल से अपनाती हर लफ्ज़ को
भारी उर्दू अल्फ़ाज़ जो ना समझू
दिल से कोई अर्थ लगाती उनको |

हम तो बस इतना ही जानते
शेर जोड़ कर ग़ज़ल है बुनते
काफिया,बहर,मतला,रदिक
ये  सब हम  नही  समझते |

हम  भी  ये सब  सीखना चाहे
ताकि खालिस ग़ज़ल लिख पाए
हम भी खुदकी  महफ़िल सजाए
और ग़ज़लो की दीवानी कहलाए.|

top post

4 टिप्पणियाँ

  1. विनय प्रजापति said,

    जनवरी 9, 2008 at 6:35 पूर्वाह्न

    हम तो बस इतना ही जानते
    शे’र जोड़ कर ग़ज़ल हैं बुनते
    काफ़िया,बहर,मतला,रदीफ़
    ये सब हम नही समझते |

    असलूब(नियम) निभाना कभी-कभी कितना मुश्किल होता है आपने बहुत ही सरल शब्दों में कह दिया|

  2. जनवरी 9, 2008 at 12:55 अपराह्न

    bahut khooob…………. mehhekk jee
    हम तो बस इतना ही जानते
    शे’र जोड़ कर ग़ज़ल हैं बुनते
    काफ़िया,बहर,मतला,रदीफ़
    ये सब हम नही समझते | ……. inhe ham bhi nahi samjhte par jaldi hi koshish karnge ke sab mil ke samjh paaye….

  3. mehhekk said,

    जनवरी 9, 2008 at 2:39 अपराह्न

    shukriya prajapati nazar ji,aap ki ghazale tho hamesha hi achhi hoti hai.kafi hamne padhi bhi hai.

  4. mehhekk said,

    जनवरी 9, 2008 at 2:42 अपराह्न

    hem shukran,hum bhi apke saath ye sikhna chati hai.hame intazaar rahega apke gazal par roushni dilanewale blog ka.aap likhe,hum rah mein ankhen bichoye baithe hai.


एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: