रुपहली किरनो से सजाया जो आसमान

रुपहली किरनो से सजाया जो आसमान
चाँद के बिन सितारे अधूरे  से लगते  है |

समंदर की गहराई में छुपाया जो खजाना
मोतियो  के बिन सीप अधूरे से लगते है |

इज़हार करने जाओ जो गमजमाना
आसुओ के बिन नयन अधूरे से लगते है |

महफ़िल में सजाओ जो गीतो का तराना
सुरताल  के बिन साज़ अधूरे से लगते है |

तुम हमे कितनी अज़ीज़ कैसे करे बयान
महक‘  के  बिन फूल अधूरे से लगते है |

6 टिप्पणियाँ

  1. जनवरी 19, 2008 at 6:28 पूर्वाह्न

    महफ़िल में सजाओ जो गीतो का तराना
    सुरताल के बिन साज़ अधूरे से लगते है |

    —————————-
    दीपक भारतदीप

  2. जनवरी 19, 2008 at 8:00 पूर्वाह्न

    very nice….pehaley bhi kari baar padha but kabhi shayad kuch likha nahi ..aap bhut acha likhti hai

  3. विनय प्रजापति said,

    जनवरी 21, 2008 at 4:37 पूर्वाह्न

    समंदर की गहराई में छुपाया जो खजाना
    मोतियो के बिन सीप अधूरे से लगते है |

    वाह, क्या बात है!!!

  4. mehhekk said,

    जनवरी 21, 2008 at 8:53 पूर्वाह्न

    bahut dhanyawad sab ka.,pyar banaye rakhiye.

  5. samar said,

    जनवरी 25, 2008 at 4:19 पूर्वाह्न

    hi good

  6. ashutosh said,

    जून 19, 2008 at 1:12 पूर्वाह्न

    owh!!! very nice. i enjoyed it.i expect this kinds of poem from you keep it up.


एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: