धूप का रेशमी टुकड़ा

धूप का रेशमी टुकड़ा

दिन की पहली प्रहर में
कोई दस्तक सुनाई दी
झरोखे से देखा  छुपकर
वो खड़ा था मेरी दहलीज़ पर
सोने सी चमकती काया
मुखड़े पर अरुनिम तेज
धूप का रेशमी टुकड़ा
सरक सरक के आगे बढ़ रहा था

जैसे अपने लिये कोई जगह तलाश रहा हो
कर रहा था इंतज़ार शायद
किवाडो के खुलने का
अंधेरो को उजागर करने का
निशा को आशा में बदलने का
अपने मृग नयनो से
 कुछ खोजता नज़र आया

छिपा ना पाई खुद को ज़्यादा देर
मुझे देख वो मंद मंद मुस्काया
सुनहरे धुलिका के कन उसके
और ही जगमगा उठे
आने दोगी भीतर मुझे
एक टक देख बतिआया
किस राह से आउ
झरोखे से छन छन कर
या खोल रही हो किवाडो के ताले
एक साथ की कह दूँगा सारे ज़ज्बात
जो नाज़ो से दिल में पले

ले रही थी उसकी बातों का अंदाज़
कितनी सच है,कुछ तो हो आगाज़
हां मोह लिया मेरे मंन को 
जन्मो  के रिश्ते का
कर गया प्रण वो
जागृत हुई नयी अभिलाषा
बन जाउ धूप की छाया
खोल दिये सारे बंधन
खुद को उसकी आगोश में पाया

उसने अपना वादा बखूबी निभाया
ले जाता है मुझे संग अपने
जिस राह भी चलता है
मैं शामल हूँ,वो पीताम्बर
ऐसा ही संसार बसाया
और तब से अब तक
दिल में टिमटिमाती  रहती है सदा
उसकी मोहोब्बत की गुनगुनी रौशनी |

18 टिप्पणियाँ

  1. Rewa said,

    जनवरी 30, 2008 at 8:17 पूर्वाह्न

    कर रहा था इंतज़ार शायद
    किवाडो के खुलने का
    अंधेरो को उजागर करने का
    निशा को आशा में बदलने का
    अपने मृग नयनो से
    कुछ खोजता नज़र आया

    Hmmm…..bahut badhiyan!

  2. Laxman said,

    जनवरी 30, 2008 at 12:06 अपराह्न

    i have seen your web page its interesting and informative.
    I really like the content you provide in the web page.
    But you can do more with your web page spice up your page, don’t stop providing the simple page you can provide more features like forums, polls, CMS,contact forms and many more features.
    Convert your blog “yourname.blogspot.com” to http://www.yourname.com completely free.
    free Blog services provide only simple blogs but we can provide free website for you where you can provide multiple services or features rather than only simple blog.
    Become proud owner of the own site and have your presence in the cyber space.
    we provide you free website+ free web hosting + list of your choice of scripts like(blog scripts,CMS scripts, forums scripts and may scripts) all the above services are absolutely free.
    The list of services we provide are

    1. Complete free services no hidden cost
    2. Free websites like http://www.YourName.com
    3. Multiple free websites also provided
    4. Free webspace of1000 Mb / 1 Gb
    5. Unlimited email ids for your website like (info@yoursite.com, contact@yoursite.com)
    6. PHP 4.x
    7. MYSQL (Unlimited databases)
    8. Unlimited Bandwidth
    9. Hundreds of Free scripts to install in your website (like Blog scripts, Forum scripts and many CMS scripts)
    10. We install extra scripts on request
    11. Hundreds of free templates to select
    12. Technical support by email

    Please visit our website for more details http://www.HyperWebEnable.com and http://www.HyperWebEnable.com/freewebsite.php

    Please contact us for more information.

    Sincerely,

    HyperWebEnable team
    info@HyperWebEnable.com

  3. जनवरी 30, 2008 at 2:57 अपराह्न

    बहुत बढिया कविता
    दीपक भारतदीप

  4. vikram said,

    जनवरी 30, 2008 at 3:52 अपराह्न

    “बन जाऊ धूप की छाया…………..वाह “मॆश्यामल वो पीताम्बर….सुन्दर उपमा सुन्दर रचना , सुन्दर रिश्तो की संरचना बधाई
    विक्रम

  5. विनय प्रजापति said,

    जनवरी 30, 2008 at 5:09 अपराह्न

    जागृत हुई नयी अभिलाषा
    बन जाउ धूप की छाया…

    सुन्दर रचना!

  6. mehhekk said,

    जनवरी 30, 2008 at 6:32 अपराह्न

    rewa,deepakji,vikramji,nazarji bahut bahut shukran hausla-efzayi ke liye.

  7. anurag arya said,

    जनवरी 31, 2008 at 5:57 पूर्वाह्न

    ek dhoop ka tukde ne mere dil ke bat kah di.bahut khoob.

  8. malhotraklal said,

    जनवरी 31, 2008 at 6:33 पूर्वाह्न

    jaise apne liye koi jagah tlaash raha ho kar rahaa tha intjaar kivad khulne ka…….nicely depicted truth. In fact everyone is in search of a right place for him or herself-waiting for an right apportunity..Fine feelings of life have found appropriate expression in your poetry.. good really good..

  9. mehhekk said,

    जनवरी 31, 2008 at 1:22 अपराह्न

    anuragji,malhotraji,bahut bahut shukran.

  10. जनवरी 31, 2008 at 7:28 अपराह्न

    awosome………. speechless

    aapki is rachna ko pad kar esaa lagaaa ke kavita kavi nahi padne wala kah rha ho…… dhoop ko apne ghar aata mehsoos kiya……..
    bahut bahut sundar rachna ke liye bahut bahut badhaai……..
    aapki is rachna en dil mein ek chitra ankit kiya… jo puri darshye ko sajeev karta hai….
    saadar
    hemjyotsana

  11. Raj Yadav said,

    फ़रवरी 1, 2008 at 4:14 अपराह्न

    वाह वाह ..अति सुंदर रचना ..एक शेर अर्ज़ है——
    एक नए अंदाज़ से तरकश सज़ा के शोख ने.
    खून का दरिया बहाया सब अदा कहते रहे.”
    http://rajy.blogspot.com

  12. mehhekk said,

    फ़रवरी 2, 2008 at 3:56 पूर्वाह्न

    shukran hem for ssuch a nice mesg.

    shukran raj yadavji,bahut badhiya sher hai.

  13. ajay kumar jha said,

    फ़रवरी 2, 2008 at 3:13 अपराह्न

    mehhekk jee,
    shubh sneh. pehlee baat to ye ki aap kaa naam aur usse adhik uskee spelling (jo blog par hai) bilkul alag hai, khair. sach kahoon to is blog jagat par sabhee kuchh na kuchh likh hee rahe hain magar bahut kam log hee shaayad itne kaabil aur itne sanzeedaa hain. aap likhtee rahein hum padhte rahenge. dhanyavaad.

  14. फ़रवरी 5, 2008 at 6:22 पूर्वाह्न

    Aap ki kavita padh kar laga sachmuch reshami dhoop par chal rahe hain. Bahut sundar.

  15. फ़रवरी 5, 2008 at 6:25 पूर्वाह्न

    Aage bhi kahte rahiye.

  16. mehek said,

    फ़रवरी 6, 2008 at 4:52 पूर्वाह्न

    shukran bahut bahut shukran ajayji aur anilchadahji

  17. जनवरी 25, 2015 at 6:17 पूर्वाह्न

    धूप का रेशमी टुकड़ा

    दिन की पहली प्रहर में
    कोई दस्तक सुनाई दी
    झरोखे से देखा छुपकर
    वो खड़ा था मेरी दहलीज़ पर
    सोने सी चमकती काया
    मुखड़े पर अरुनिम तेज
    धूप का रेशमी टुकड़ा
    सरक सरक के आगे बढ़ रहा था

    जैसे अपने लिये कोई जगह तलाश रहा हो
    कर रहा था इंतज़ार शायद
    किवाडो के खुलने का
    अंधेरो को उजागर करने का
    निशा को आशा में बदलने का
    अपने मृग नयनो से
    कुछ खोजता नज़र आया

    छिपा ना पाई खुद को ज़्यादा देर
    मुझे देख वो मंद मंद मुस्काया
    सुनहरे धुलिका के कन उसके
    और ही जगमगा उठे
    आने दोगी भीतर मुझे
    एक टक देख बतिआया
    किस राह से आउ
    झरोखे से छन छन कर
    या खोल रही हो किवाडो के ताले
    एक साथ की कह दूँगा सारे ज़ज्बात
    जो नाज़ो से दिल में पले

    ले रही थी उसकी बातों का अंदाज़
    कितनी सच है,कुछ तो हो आगाज़
    हां मोह लिया मेरे मंन को
    जन्मो के रिश्ते का
    कर गया प्रण वो
    जागृत हुई नयी अभिलाषा
    बन जाउ धूप की छाया
    खोल दिये सारे बंधन
    खुद को उसकी आगोश में पाया

    उसने अपना वादा बखूबी निभाया
    ले जाता है मुझे संग अपने
    जिस राह भी चलता है
    मैं शामल हूँ,वो पीताम्बर
    ऐसा ही संसार बसाया
    और तब से अब तक
    दिल में टिमटिमाती रहती है सदा
    उसकी मोहोब्बत की गुनगुनी रौशनी |

  18. salim said,

    नवम्बर 17, 2015 at 6:58 पूर्वाह्न

    Ye baat dosto ko btaye rkhna
    Roshni hogi chirag jlaye rkhna
    Lahu dekh kar jiski hifazat hum ne ki
    Aise tirange ko sda dil me bsaye rkhna


एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: