खामोशियाँ भी तेरी

खामोशियाँ भी तेरी दिल को है गवारा अज़ीजजानशीन 
के किस्सा– मोहोब्बत तेरी आँखों से बयान हो जाता
दिलनादान को लगती है चोट,वो रोता भी है कभी कभी
समझाना उसे आसान होता,गर लफ़्ज़ों का मरहम मिल पाता |

12 टिप्पणियाँ

  1. Rewa Smriti said,

    मार्च 25, 2008 at 7:24 पूर्वाह्न

    दिल-ए-नादान को लगती है चोट,वो रोता भी है कभी कभी
    समझाना उसे आसान होता,गर लफ़्ज़ों का मरहम मिल पाता |

    Ati sunder! Hmmm…..kuch baat hai in panktiyon mein or dam bhi hai.🙂

  2. alpana said,

    मार्च 25, 2008 at 8:14 पूर्वाह्न

    दिल-ए-नादान को लगती है चोट,वो रोता भी है कभी कभी
    समझाना उसे आसान होता,गर लफ़्ज़ों का मरहम मिल पाता |
    khuub kaha mahak!

  3. ila said,

    मार्च 25, 2008 at 9:32 पूर्वाह्न

    bahut khoob.lines kum,
    phir bhi dum !

  4. मार्च 25, 2008 at 2:14 अपराह्न

    बहुत खूबसूरत सच… कभी कभी खामोशी से ज़्यादा लफ़्ज़ों के महरम की चाह होती है. !

  5. मार्च 25, 2008 at 5:22 अपराह्न

    महक आप की कलम भी महक्ने लगी हे, बहुत खुब

  6. मार्च 26, 2008 at 1:20 अपराह्न

    हिन्दी लेखन करने के लिए इस लिंक से जुड़ें एवम् किसी भी प्रकार की सहायता के लिए मुझे ई-मेल करें:
    http://likhohindi.googlepages.com/

  7. anurag arya said,

    मार्च 26, 2008 at 2:05 अपराह्न

    समझाना उसे आसान होता,गर लफ़्ज़ों का मरहम मिल पाता |
    kya bat hai mohtarma…….

  8. mehhekk said,

    मार्च 26, 2008 at 3:57 अपराह्न

    rews,alpanaji,ila ji,meenakshi ji,raj ji,nazar ji,anurag ji bahut shukrana aap sab ka sarahna le liye.

  9. मार्च 26, 2008 at 5:09 अपराह्न

    दिल-ए-नादान को लगती है चोट,वो रोता भी है कभी कभी
    समझाना उसे आसान होता,गर लफ़्ज़ों का मरहम मिल पाता |

    बहुत ही सुन्दर अभिव्यक्ति

  10. Tanu Shree said,

    मार्च 26, 2008 at 5:28 अपराह्न

    dil ki baat kehna koi aapse sikhe mehek!!
    very very very very touching,,,,,,, lots of luv dear!!

  11. mehhekk said,

    मार्च 26, 2008 at 7:29 अपराह्न

    vikram ji,tanu bahut shukrana

  12. rasprabha said,

    मार्च 27, 2008 at 1:48 अपराह्न

    समझाना उसे आसान होता,गर लफ़्ज़ों का मरहम मिल पाता |…
    क्या खूब कहा है!
    एक गुजारिश है-अपना लिंक भेजा करें…..


एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: