पहला प्यार

Image and video hosting by TinyPic

पहला प्यार  

 

जब भी देखूं तुम्हारी आँखों में
याद आते हैं वो गुजरे गुलाबी लम्हें
पहला प्यार जो हमारी ज़िंदगी में आया
उन हसीन घड़ियों में ,हमने तुम्हें पाया

 बरसातों के खुशनुमा मौसम
कुछ भीगे तुम, कुछ भीगे से हम
राह से चलते-चलते अनजाने से टकराए
ठंड से कपकपाते बदन, थोड़े से सहेराए
चहेरे से टपकती बूंदें, गालों पर लटों की घटायें
नयना मिले नयनों से, हम दोनों मुस्कुराए
सिमटकर अपनी चुनरी, शरमाये निकल गये थे।

घर पहुँचे लेकर तेरे उजले से साए
पलकों में बंद होकर साथ तुम भी चले आए
मुलाक़ातों के फिर शुरू रोज़ सिलसिले
दिल-ओ-जान हमारे, सदा ही रहे मिले
रेशम डोर से बँधकर, मिलकर ख्वाब सजाए
प्यार, समर्पण के भावना से गीत रचाए
तुम्हारे होने से जीवन के नज़रिए बदल गये थे।

इतना वक़्त जो तुम संग बिता लिया
हर लम्हा जिया वो था नया-नया
गुलशन-ए-बहार में खुशियों के फूल खिलाए
संभाला तुम्हीं ने हमें ,कभी कदम डगमगाए
सिखाया तूफ़ानो का सामना करना
संयम से अपने अस्तित्व को सँवारना
प्यार की गहराई के असली मायने समझ गये थे |

गुलाबी लम्हों को रखा संजोए
मन में उनको पल पल दोहराए
क्या पहला प्यार फिर हो सकता है?
होता है, आज मुझे हुआ है
दोबारा तुमसे…..

http://merekavimitra.blogspot.com/2008/03/blog-post_5284.html

35 टिप्पणियाँ

  1. अप्रैल 6, 2008 at 11:09 पूर्वाह्न

    गुलाबी लम्हों को रखा संजोए
    मन में उनको पल पल दोहराए
    क्या पहला प्यार फिर हो सकता है?
    होता है, आज मुझे हुआ है
    दोबारा तुमसे…..

    अति-सुन्दर

  2. yamaraaj said,

    अप्रैल 6, 2008 at 11:20 पूर्वाह्न

    bahut sundar badhaai

  3. alpana said,

    अप्रैल 6, 2008 at 12:20 अपराह्न

    गुलाबी लम्हों को रखा संजोए
    मन में उनको पल पल दोहराए
    क्या पहला प्यार फिर हो सकता है?

    achchee kashmaksh hai!
    [waise pahla pyar dobara [pahla kaise kahlaya ja sakta hai? .]

  4. mehhekk said,

    अप्रैल 6, 2008 at 3:38 अपराह्न

    vikram ji bahu shukran

    yamraaj ji apka bhi shukrana

    alpanaji bahut shukran,aap ankhen band karke un lamhon ko phir se dekhen aapko bhi un lamho se pyar ho jayage vaisa hi pehla pyar dobara:)

  5. अप्रैल 6, 2008 at 4:07 अपराह्न

    अति सुन्दर भाव !

  6. अप्रैल 6, 2008 at 8:07 अपराह्न

    इतना वक़्त जो तुम संग बिता लिया
    हर लम्हा जिया वो था नया-नया
    गुलशन-ए-बहार में खुशियों के फूल खिलाए
    संभाला तुम्हीं ने हमें ,कभी कदम डगमगाए
    अति सुन्दर हमे तो भाई वो फ़िल्म का एक सीन याद आ गया फ़िल्म बरसात मधुबाला ओर भारत भुषण, जब दोनो बरसात मे मिलते हे

  7. anurag arya said,

    अप्रैल 7, 2008 at 5:45 पूर्वाह्न

    होता है, आज मुझे हुआ है
    दोबारा तुमसे…..

    सारी कविता का सार है …..बहुत खूबसूरत…..

  8. mehhekk said,

    अप्रैल 7, 2008 at 9:09 पूर्वाह्न

    anil ji,raj ji,anurag ji aap sab ka tahe dil se shukrana

  9. Tanu Shree said,

    अप्रैल 7, 2008 at 10:56 पूर्वाह्न

    क्या पहला प्यार फिर हो सकता है?
    होता है, आज मुझे हुआ है
    दोबारा तुमसे…..

    Lovely Mehek …Kis kis line ki taarif karu….
    Bilkul dil ki awaaz hai ye….
    enjoy ur Love forever….
    My best wishes!!

  10. Rewa Smriti said,

    अप्रैल 7, 2008 at 1:58 अपराह्न

    गुलाबी लम्हों को रखा संजोए
    मन में उनको पल पल दोहराए
    क्या पहला प्यार फिर हो सकता है?
    होता है, आज मुझे हुआ है
    दोबारा तुमसे…..

    bahut sunder hai! Pyar to pyar hai ise hamesha kayi bar mahsoos kiya jata hai🙂

  11. mehhekk said,

    अप्रैल 7, 2008 at 2:09 अपराह्न

    tanu,rews thank u very much.pehla pyar hi aisa ota hai aksar yaad aata hai:)

  12. Ami Jha said,

    अप्रैल 7, 2008 at 4:30 अपराह्न

    hmm… understand the feel mehek

  13. mehhekk said,

    अप्रैल 7, 2008 at 6:00 अपराह्न

    ami ji shukrana

  14. RAJIV said,

    अप्रैल 16, 2008 at 6:14 पूर्वाह्न

    जब भी देखूं तुम्हारी आँखों में
    याद आते हैं वो गुजरे गुलाबी लम्हें
    पहला प्यार जो हमारी ज़िंदगी में आया
    उन हसीन घड़ियों में ,हमने तुम्हें पाया

  15. Rishi kumar singh said,

    जुलाई 20, 2008 at 11:54 पूर्वाह्न

    mera har din tere har rat se achha hoga,
    mera har bat tere her jajbat se achha hoga,
    uthegi doli jis din tumhari, gughat uthakar dekhana,
    mera janaja tere barat se achha hoga,

  16. Rishi kumar singh & deepika singh said,

    जुलाई 20, 2008 at 12:01 अपराह्न

    kisi khash ko nazarandaz kiya nahi jata ,
    jinhe bhul sakte nahi unhe yad kiya nahi jata ,
    ye yaden to sahil hai un lamho ki. . . . . . . . . . . . . . . . . .,
    jin lamho ko dobara jiya nahi jata…… RISHI

  17. Rishi kumar singh & deepika singh said,

    सितम्बर 4, 2008 at 12:14 अपराह्न

    phir na simtegi agar dostibikhar jayegi,
    jindagi julf nahi jo phir sawar zayegi,
    jo khushi de tumko tham lo daman uska,
    jindagi ro ke nahi haste huye guzar zayegi……

  18. manish said,

    सितम्बर 29, 2008 at 1:28 अपराह्न

    .बिंदिया,झुमका,पायल,बाजूबंद मैं सब कुछ पहनकर आउ
    एक काला तीट मुझे लगाना, सब की नज़र से मैं बच पाउ |

    2.पिया लुभावन, हर दिन में दुल्हन , चाहे सोला शृंगार करे
    शृंगार उसका अधूरा लागे,जब तक ना सिंदूर से माँग भरे |

    3.गोल गोल जो सदा घूमत रहे, मुझे वो ही गरारा चाहिए
    पिया मिलन से मैं शर्माउ,चहेरा छुपाने ओढनी भी लाइए |

    4.किन किन करते कंगना मेरे,खनक खनक सब कुछ बोले है
    लाज के मारे लब सिले है , तब कंगना दिल के राज़ खोले है |

    5.ठुमक ठुमक जब गोरिया चले है ,उसकी तारीफे कीजिए गा
    रूठे जो सजना से गोरी ,मनाए खातिर, नौलखा दीजिए गा |

  19. RAJ SINH said,

    नवम्बर 18, 2008 at 10:26 पूर्वाह्न

    mehekji,

    aapke dar pe pahlee bar aaya. aapne to bhavnaon kee , sam-bhavnaon kee ,sah-bhavnaon kee mehfil saja rakhee hai ! badhayee !

    dava to naheen hai haan anubhav kee kah sakta hoon (aur yeh anubhav bhee abhee hal filhal ka hee hai purana bhee naheen) agar aap man se prarthna karen, puranee bhoolon ke liye ishvar se chama mangen, pyar lautane ka jajba rakhen, to aapko pahle pyar se bhee sundar aakhiree pyar mil sakta hai !!

    agar pahla pyar kho gaya ho to ! varna kismat to ye ho ki pahla pyar hee aakhiree ho !

  20. aman said,

    नवम्बर 28, 2008 at 5:51 अपराह्न

    pehla pyar to pehla he hota he dubaara nhi mera to yhi manna he

  21. ganesh said,

    दिसम्बर 30, 2008 at 10:03 पूर्वाह्न

    pahala pyar to pahala hi rah jata hai ,dobore pyar ki ummed bhi nahi karana,pahala pyar chala jata hai,uski kamasin yadein dil mein rah jati hai,

  22. Anil Kant said,

    जनवरी 4, 2009 at 5:04 अपराह्न

    महक जी मन की भावनाओं और ह्रदय में छुपी हुई प्यार की गहरायी को आपने शब्दों में बखूबी उतारा है.

    मेरा आपको और आपकी रचना को सलाम.

    आपका मित्र
    अनिल कान्त

  23. Raghav said,

    जनवरी 21, 2009 at 6:20 पूर्वाह्न

    banate hyn savi riste nivana kisko aata hy,
    rulate hyn savi lekin hasana kisko aata hy.

  24. ramadwivedi said,

    फ़रवरी 8, 2009 at 6:04 अपराह्न

    महक जी ,आपकी कविता की तरह ही प्रतिक्रियाएं और भी अच्छी हैं…मज़ा आ गया पढ़कर… ’प्यार’ संजो कर रखने की चीज़ है और प्यार की यादें कभी जाती नहीं । मैंने भी बहुत कुछ लिखा है प्यार पर और आपने जरूर पढ़ा होगा अनुभूति कलश में। आपको और उन सभी को जिन्होने प्रतिक्रियाएं दी हैं मेरी हार्दिक शुभकामनाएं।

  25. mehek said,

    फ़रवरी 9, 2009 at 5:59 पूर्वाह्न

    rama ji shukran,haan ji aapki khubsurat pyar par nazme hamne bhi padhi hai,unhe hum kaise bhulrnge,pyar ki bahaar chanewali hai,aap ko bahut shubkamnaye.

  26. abhinaw-halchal said,

    फ़रवरी 23, 2009 at 10:12 पूर्वाह्न

    pahala pyar pahala he hota hai. anubhavparak rachana hai. badhai

  27. rohit said,

    मार्च 12, 2009 at 7:40 पूर्वाह्न

    oh kia kahen..yaar aap to dindin Mature hoti jaa rahi hai. Shabdo me bhi kafi maturity hai…..

    Bhai Pahle Pyare ke bare me apan to experience kafi ajeeb tha. so kia kahe..dubara se pahle pyare hoga ki nahi….
    ab to karwa ekla hai,
    isq ke manjele ka pata nahi
    thundta nahi ab kisi nazar ko
    ab to na maloom sa safar hai
    na jane kitne manjilo ka safar hai
    jo ab rukta nahi, thmatha nahi.

    rohit

  28. Ajay Sharma said,

    मार्च 12, 2009 at 11:22 पूर्वाह्न

    Mehek ji, bahut accha likha mainey bhi pyar kiya tha par kuch karno say maney apna pehla pyar kho diya.Bus yadhon main ji raha haun. Dhaoun karo ki agley janam main mera pehla pyar dhubra mil jayey.

  29. Jagat said,

    मार्च 13, 2009 at 1:04 अपराह्न

    pyar sirf 1 bar hota hai,,,, pata nahi kab kahan kisse ho jaye,,,, lekin agar ho jaye to nibhana chahiye………Ho sake to pyar mat karna, Ho jaye to inkar mat karna, Jindgi bhar kose koi tumhen, Aisa kisi ko moka mat dena…………..but 1 bar karke jarur dekhna……..main bhi karta hoon … her name is “””””””””A__R_D_A””””””””””” who can guess ,,, she is my prayer,, my life,, jo ladka kabhi nahi sudhrega etc. coomment sunta tha ,,,,jo apne school,,college ka bada bamash tha,,,, wahi JAGAT sudhar gaya hai………so friends LOVE IS GOD,,,,,,,,,,…………….

  30. ABHISHEK said,

    मार्च 15, 2009 at 3:24 अपराह्न

    LOVE IS PART OF LIFE

  31. Dr Vishwas Saxena said,

    मई 5, 2009 at 6:13 पूर्वाह्न

    dear author
    sorry I appear again unwantedly and candidly .Love is an sensation triggered most definately at a particular stage of our life.Since this phase is identified with intense emotional perception we view every happening metaphysically.In fact first love is never ever is a love! cause love appears very spontaneously after crossing the barriers of appreciation,overcoming hatred,facilitating philanthropy and struggling out adversities togather.Love is a smell of that first drop of sweat emerging out from the countless toils of bumpy pathways of life,it is a reminiscent of association which lasts in torments and turbulence—hallucinated with continued metabolic change we perceive beauty! in every happening——–but as we grow we are not able to endure the facts and reality and crave for lost love ironically which never existed—-read your own poem after twenty years and you will say it is all false narration.But remember you will get real sensation of love in that age only.Regards
    Dr Vishwas Saxena

  32. ramesh kumar sirfiraa said,

    मार्च 7, 2010 at 11:13 पूर्वाह्न

    bahut acha hone ke sath hi pehelay pyar ki sachai ka samavays hai.

  33. DUGU said,

    जुलाई 11, 2010 at 6:16 पूर्वाह्न

    Akhri panti…ne hosh uda diya…..wah kavi sahab tumne kya kar diya..

    masa…allah..

  34. अगस्त 31, 2010 at 2:13 अपराह्न

    Pyaar vo feeling hai jo sirf pyaar karne wale samajh sakate hai, vaise true love sirf ek baar hota hai baki ager jindagi mein kuch hota hai to mahaj ek akarshad hai. aru nowdays pyaar ek byaapar ban chuka hai.
    below some lines——
    Fark lagta hi nhi kuchh pyaar mein aur byaapar mein, aa gayi har chij yaaro aajkal bajar mein.
    pahle sukh dard mein shamil rha insan, ab sukh dard bhi shamil hue bevohaar mein……………….


एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: