मुट्ठी भर चाँदनी

Image and video hosting by TinyPic

1.मुट्ठी भर चाँदनी

पहेले रोज़ खिड़की पर आता था
रात रात हमसे बतियाता था
भोर की रश्मि आने पर भी
हमे  छोड़ के जाता था
आज कल हमे देख कर
बादलों के पीछे छुप जाता है
अक्सर नज़र भी नही आता है
कोई गुनाह तो नही हुआ हमसे?
एक बार बस रात को रौशन करने
मुट्ठी भर चाँदनी ही तो
उधर माँगी थी चाँद से…….

Image and video hosting by TinyPic

 2.चाँद के रूप

पौर्निमा की रात 
चाँद को
शर्मा कर खिलते हुए
मंद मुस्काते हुए
पूरी दुनिया ने देखा होगा
अमावस पर 
चाँदनी के बिना 
अकेले में रोते हुए 
उसे सिर्फ़ हमने देखा है |

15 टिप्पणियाँ

  1. kush said,

    अप्रैल 13, 2008 at 4:31 पूर्वाह्न

    चाँदनी के बिना
    अकेले में रोते हुए
    उसे सिर्फ़ हमने देखा है |

    बहुत आच्छे महक जी.. बहुत ही सुंदर क्षणिकाए है.. बधाई स्वीकार करे..

  2. अप्रैल 13, 2008 at 6:20 पूर्वाह्न

    चांद जवान हो गया हे,

  3. अप्रैल 13, 2008 at 6:33 पूर्वाह्न

    प्रकृति और जीवन की सच्चाईयों को प्रतिविम्बित करती क्षणिकाएँ मन की गहराईयों में उतर गयी , बधाईयाँ!

  4. mehhekk said,

    अप्रैल 13, 2008 at 9:26 पूर्वाह्न

    kush ji,raj ji,ravidra ji bahut shukrana aap sab ka sarahna ke liye.

  5. Rewa Smriti said,

    अप्रैल 13, 2008 at 3:55 अपराह्न

    अमावस पर
    चाँदनी के बिना
    अकेले में रोते हुए
    उसे सिर्फ़ हमने देखा है |

    Bahut suner Mehek! Yeh rat khush naseeb hai jo apne yaar ko kaleze se lagaye rahti hai….aur bus ek rat aisa bhi hota hai jab chand ke bina wo roti hai, us ek din ka dard hamne sab nahi smajh pate hein, use sirf hamne dekha hai.

  6. Kuldeep said,

    अप्रैल 13, 2008 at 4:12 अपराह्न

    achchha likhati hai aap

  7. mehhekk said,

    अप्रैल 14, 2008 at 3:05 पूर्वाह्न

    rews,kuldeep ji tahe dil se shukran

  8. Tarun said,

    अप्रैल 14, 2008 at 11:46 अपराह्न

    अमावस पर
    चाँदनी के बिना
    अकेले में रोते हुए
    उसे सिर्फ़ हमने देखा है |

    kya baat hai ..

    chhupta hai chand jo, sab bas shikayat yun karte hai
    koi nahi jaanta bujha bujha chanda andhero mein jalta hai

    -tarun

  9. mehhekk said,

    अप्रैल 15, 2008 at 2:49 पूर्वाह्न

    tarunji shukran
    wah kya sher kaha hai aapne,bhuja bujha chand andheron mein jalta hai,bahut khub.

  10. anurag arya said,

    अप्रैल 16, 2008 at 8:07 पूर्वाह्न

    अमावस पर
    चाँदनी के बिना
    अकेले में रोते हुए
    उसे सिर्फ़ हमने देखा है |

    bahut badhiya…….mahek ji….

  11. Tanu said,

    अप्रैल 16, 2008 at 1:48 अपराह्न

    चाँदनी के बिना
    अकेले में रोते हुए
    उसे सिर्फ़ हमने देखा है |

    bohot sundar …… lovely !!

    Regards!!

  12. mehhekk said,

    अप्रैल 16, 2008 at 6:10 अपराह्न

    anurag ji,tanu shukrana

  13. alpana said,

    अप्रैल 20, 2008 at 8:03 अपराह्न

    चाँदनी के बिना
    अकेले में रोते हुए
    उसे सिर्फ़ हमने देखा

    bahut hi achcha likha hai Mahak..

  14. Prabhakar said,

    अप्रैल 21, 2008 at 2:42 अपराह्न

    Chand ki khushbu to ab ham bhi mahsoos kar rahe hai ,
    Lagata hai Mehek ji ne chand ko bhi Mahaka diya hai

  15. RAMESHPINDYAR said,

    अक्टूबर 17, 2008 at 9:07 पूर्वाह्न

    REALLY GREAT


एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: