किताबी सुर्ख गुलाब सा तेरा अफ़साना हुआ

देखा नज़र भर के तुझे जमाना हुआ
हमारी रुसवाईयों का सबब पुराना हुआ |
हम कब के भुला चुके तीर-ए-नश्तर
नफ़रत-ओ-गुबार दिल से रवाना हुआ |
दुनिया की दौड़ में हो गया शामिल
इंसान खुद की शख्सियत से बेगाना हुआ |
वो तो यूही किसीने जिक्र किया तुम्हारा
छुपाए राज़-ए-इश्क़ तब बताना हुआ |
मुश्किल गलियों से तेरी दहलीज़ तक पहुँचे
दीदार-ए-आफताब नाहो साजिशन सताना हुआ |
रस्मो की जंजीरे तोड़ के निकले जो
राह-ए-वफ़ा तय उनका गुजर जाना हुआ |
यादों और ख्वाबो में मिलने आओगे कभी
फ़िज़ूल ही झिलमिल अरमानो को बहलना हुआ |
सच्चाई को गले लगाना सिख ले “महक”
किताबी सुर्ख गुलाब सा तेरा अफ़साना हुआ |

 

 

 

 

 

 

6 टिप्पणियाँ

  1. अप्रैल 16, 2008 at 7:27 अपराह्न

    sub’haan allah, kamaal kaa likha hai….

  2. menka said,

    अप्रैल 16, 2008 at 10:53 अपराह्न

    bahut achha likha hai aapne.

  3. Rewa Smriti said,

    अप्रैल 17, 2008 at 2:07 पूर्वाह्न

    दुनिया की दौड़ में हो गया शामिल
    इंसान खुद की शख्सियत से बेगाना हुआ |

    सच्चाई को गले लगाना सिख ले “महक”
    किताबी सुर्ख गुलाब सा तेरा अफ़साना हुआ |

    Beautiful afsana likha hai🙂

  4. mehhekk said,

    अप्रैल 17, 2008 at 5:21 पूर्वाह्न

    nazar ji,menka,rews shukrana

  5. kmuskan said,

    अप्रैल 17, 2008 at 11:02 पूर्वाह्न

    bahut badiya hai

  6. मई 9, 2010 at 7:03 पूर्वाह्न

    Mujh ko naa dekh door se, najdeek aa ke dekh
    Pathar hun halka phool se mujh ko utha ke dekh

    Chahre ke daag aise tao aate nahi najar
    Darpan ke ru bru jara najre mila ke dekh

    Shabdo ki aatma main utarta nahi koi
    Vipda tu apni apne hi ghar me suna ke dekh

    Khushboo ko kaise le ura jhonka hawa ka dost
    Tu bhi tho apne pyaar ki khushboo luta ke dekh

    Yeh kya ki boot bana liye pathur tarash kar
    Tu aadmi ko aadmi “ Azer” bana ke dakh


एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: