कुछ दिल से

कुछ दिल से 

१. वैसे तो आपकी हर अदा से वाकिफ़ है दिलदारा 
   डरते है जब इश्क़ में इम्तेहान  देने की बात हो |

२. जब तक न तुमसे बातें हो दिल-ए-ग़ुरबत सुकून नही पाता 
   बार- २ दोहराओ वादा-ए-इश्क़,तब तक उसे यकीन नही आता |

३. बैचेनियों के तूफान क्यों उठते है दिल में हर वक़्त 
    तेरी एक नज़र बस ,इत्मीनान से थम जाया करते है |

४. रात की नींद भी सुहानी बने जो तू ख्वाब में आ जाए
     कोई सवाल मुश्किल नही ज़िंदगी का जो तू जवाब दे जाए |

५. तेरी मुस्कान को देख कर,हम भी रोज हंस लेते है
    तुझ से बातें करने संगदिल मगर बहुत तरस जाते है | 

19 टिप्पणियाँ

  1. ami said,

    अप्रैल 20, 2008 at 5:21 पूर्वाह्न

    I love this line,

    तेरी मुस्कान को देख कर,हम भी रोज हंस लेते है
    तुझ से बातें करने संगदिल मगर बहुत तरस जाते है |

    Life mein aisa kayi baar hota hai.
    Bahut sundar Mehhekk ji.

  2. अप्रैल 20, 2008 at 6:35 पूर्वाह्न

    बढ़िया है.

  3. अप्रैल 20, 2008 at 6:55 पूर्वाह्न

    महक बहुत सुन्दर शेर हे आप के …लेकिन इश्क़, मे कभी वादा नही करो क्यो कि वादे तो तोडने के लिये होते हे,सुना नही **वो वादा ही कया जो वफ़ा हो जाये**

  4. rasprabha said,

    अप्रैल 20, 2008 at 7:24 पूर्वाह्न

    आपकी प्यार भरी कविताओं पर बरबस प्यार आ जाता है……
    प्यार के एहसास बड़े जीवंत लगते हैं.

  5. kanchan said,

    अप्रैल 20, 2008 at 7:24 पूर्वाह्न

    वैसे तो आपकी हर अदा से वाकिफ़ है दिलदारा
    डरते है जब इश्क़ में इम्तेहान देने की बात हो |

  6. meenakshi said,

    अप्रैल 20, 2008 at 9:13 पूर्वाह्न

    रात की नींद भी सुहानी बने जो तू ख्वाब में आ जाए
    कोई सवाल मुश्किल नही ज़िंदगी का जो तू जवाब दे जाए |

    सभी शेर बहुत खूब … लेकिन यह खास … सपने भी सच होते हैं…. !

  7. अप्रैल 20, 2008 at 12:24 अपराह्न

    रात की नींद भी सुहानी बने जो तू ख्वाब में आ जाए
    कोई सवाल मुश्किल नही ज़िंदगी का जो तू जवाब दे जाए |
    khari bat…….vaise achha laga aaj aapka mood kuch achha maloom padta hai.

  8. अप्रैल 20, 2008 at 1:39 अपराह्न

    रात की नींद भी सुहानी बने जो तू ख्वाब में आ जाए
    कोई सवाल मुश्किल नही ज़िंदगी का जो तू जवाब दे जाए |

    bahut sundar

  9. mehhekk said,

    अप्रैल 20, 2008 at 5:55 अपराह्न

    ami ji,samir ji,raj ji,rashmi ji,kanchan ji,meenakshi ji,anuraag ji,vikram ji,aap sabhi ka tahe dil se shukrana.

  10. SATYENDRA PRASAD SRIVASTAVA said,

    अप्रैल 20, 2008 at 7:32 अपराह्न

    बहुत अच्छा। अच्छे शेर हैं।

  11. shubhashishpandey said,

    अप्रैल 21, 2008 at 4:33 पूर्वाह्न

    “डरते है जब इश्क़ में इम्तेहान देने की बात हो”

    kya baat hai🙂

  12. mehhekk said,

    अप्रैल 21, 2008 at 4:41 पूर्वाह्न

    satyendra ji,shubhashish ji shukrana

  13. Prabhakar said,

    अप्रैल 21, 2008 at 2:34 अपराह्न

    Dil ko chhu gayi aapki shayary

  14. अप्रैल 21, 2008 at 3:49 अपराह्न

    जब तक न तुमसे बातें हो दिल-ए-ग़ुरबत सुकून नही पाता
    बार- २ दोहराओ वादा-ए-इश्क़,तब तक उसे यकीन नही आता |
    —————————————-
    दिन ब दिन आपकी काव्य रचनाओं में आकर्षण बढ़ता जा रहा है।
    दीपक भारतदीप

  15. Ila said,

    अप्रैल 22, 2008 at 5:15 पूर्वाह्न

    रात की नींद भी सुहानी बने जो तू ख्वाब में आ जाए
    कोई सवाल मुश्किल नही ज़िंदगी का जो तू जवाब दे जाए

    BEAUTIFUL SENTIMENTS.WAITING FOR MORE.

  16. mehek said,

    अप्रैल 22, 2008 at 11:19 पूर्वाह्न

    prabhakar ji,deepak ji,ila ji shukrana

  17. Rewa Smriti said,

    अप्रैल 23, 2008 at 1:39 अपराह्न

    वैसे तो आपकी हर अदा से वाकिफ़ है दिलदारा
    डरते है जब इश्क़ में इम्तेहान देने की बात हो |

    Beautiful dear.
    Isq hota nahi sabhi ke liye…🙂

  18. kmuskan said,

    अप्रैल 24, 2008 at 12:38 अपराह्न

    Har sher bahut khub hai……bahut sunder likha hai

  19. yatin karnik said,

    जून 6, 2008 at 10:30 पूर्वाह्न

    saikal ko pendal nahi to chalane me kya maza
    college mai ladki nahi to patane mai kya maza


एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: