पहली बूँद

पहली बूँद

आज इस वक़्त गर्मी से अलसाया मौसम भीग रहा है | बरसात की बूँदों ने
अपना गीत छेड़ दिया | छन छन सी प्यासी धरती पर नाच रही है वो बूँदें |
और भीग भीग कर मद मस्त हुए मन के मयूर पंख पसारे स्वागत कर
रहे है बदलाव का |

   ऐसा प्रतीत हो रहा है मानो ,खुशियों की हवायें अपना रुख़ हमारी और
बदल रही है | तन पर गिरती हर बूँद , जाने मन को भी किन किन 
हसीन यादों में भीगा रही है | वो मीठे एहसास फिर उभर कर आते है |

   माटी की सौंधी सी खुशबू तेरा ही पैगाम देती है | उसी की तरह तुम भी
हमारी साँसों में बसे हो | वही खिड़की,वही कोफ़ी का कप,वही मस्ताना
र्रिमझिम सा गीत,वही तेरी बातों और हँसी की याद |बहुत दूर हो हमसे 
तुम ,क्या सुन रहे हो दिल के साज़ ? पगली कहते हो हमे तुम,वही सवाल 
बार बार करती हूँ, जानती हूँ समझ जाते हो तुम अनकहे ही इस दिल के राज |

24 टिप्पणियाँ

  1. जून 3, 2008 at 4:57 अपराह्न

    तुम ,क्या सुन रहे हो दिल के साज़ ? पगली कहते हो हमे तुम,वही सवाल
    बार बार करती हूँ, जानती हूँ समझ जाते हो तुम अनकहे ही इस दिल के राज |
    ——————————————–
    bahut badhiya

  2. जून 3, 2008 at 5:08 अपराह्न

    बहुत उम्दा लेखन और बहुत ही सुन्दर बोलती तस्वीर. बधाई.

  3. mehhekk said,

    जून 3, 2008 at 5:14 अपराह्न

    deepak ji,samir ji bahut shukrana,pehli baarish ho rahi hai,yuhi man kuch bol gaya:)

  4. pallavi trivedi said,

    जून 3, 2008 at 5:21 अपराह्न

    तन पर गिरती हर बूँद ,न जाने मन को भी किन किन
    हसीन यादों में भीगा रही है | वो मीठे एहसास फिर उभर कर आते है |

    एकदम सच कहा महक…

  5. जून 3, 2008 at 5:32 अपराह्न

    वाह ! बहुत सुन्दर ! मैं तो वर्षा की प्रतीक्षा कर रही हूँ।
    घुघूती बासूती

  6. mehhekk said,

    जून 3, 2008 at 5:49 अपराह्न

    paallavi ji,ghughuti ji shukrana ,thoda intazaar aapke waha bhi barish hogi:)

  7. जून 3, 2008 at 6:46 अपराह्न

    आपकी कलम में तो जादू है.

  8. जून 4, 2008 at 3:56 पूर्वाह्न

    बहुत सुंदर महक जी .

  9. कुश said,

    जून 4, 2008 at 4:22 पूर्वाह्न

    इस तस्वीर से गिरती बूँदो ने यहा तक ठंडक भेजी है.. बारिश हमेशा से मुझे अच्छी लगती है.. आपने बहुत खूब वर्णन किया है..

  10. mehek said,

    जून 4, 2008 at 5:28 पूर्वाह्न

    sunil ji,ranju ji,ksh ji,bahut shukrana

  11. mamta said,

    जून 4, 2008 at 7:25 पूर्वाह्न

    वाह !
    इससे सुंदर बारिश का और क्या वर्णन हो सकता है।

  12. Rewa Smriti said,

    जून 4, 2008 at 8:07 पूर्वाह्न

    पगली कहते हो हमे तुम…..

    Kitna innocent hai yeh ek choti si pankti……I just love it. Thanks mehek!

  13. Shubhashish Pandey said,

    जून 4, 2008 at 3:35 अपराह्न

    vicharon ki khubsurat abhiyakti

  14. rohit said,

    जून 4, 2008 at 3:52 अपराह्न

    mehak
    kis line ke tarrif karu yaar, samz nahi aata… dil ke har taar ched diye hai tumne ..sach hai, barish ki har boond na janne kitne bheetar tak man ko bhigo dete hai, maan-mayur naach uthta hai, ghane kale badlo ko dekh ker, dil ke har umang jawa ho uthti hai, Maat ki MEHAK se maan sughandit ho jata hai..
    MEKHAK , BHAUT BADIA YAAR BHAUT BADIA…..
    TUM GAZAB HO,
    ROHIT

  15. Rewa Smriti said,

    जून 5, 2008 at 3:09 पूर्वाह्न

    Mehek, aapne mujhe अज्ञेय ki ek rachna yaad dila di hai. Kal hi dalna chah rahi thee but thoda busy ho gayi thee, isliye aaj dal rahi hun. I hope you will like it.

    Title- मैं ने देखा, एक बूँद

    मैं ने देखा

    एक बूँद सहसा

    उछली सागर के झाग से;

    रंग गई क्षणभर,

    ढलते सूरज की आग से।

    मुझ को दीख गया:

    सूने विराट् के सम्‍मुख

    हर आलोक-छुआ अपनापन

    है उन्‍मोचन

    नश्‍वरता के दाग से!

    ***********

    रचनाकार: अज्ञेय

    rgds.

  16. Annapurna said,

    जून 5, 2008 at 3:58 पूर्वाह्न

    बहुत सुन्दर तस्वीर !

    इन भावों को गद्य की बजाय पद्य में प्रस्तुत करती तो पहली बारिश की सौंधी महक का भी आनन्द आ जाता।

  17. mehhekk said,

    जून 5, 2008 at 4:22 पूर्वाह्न

    mamtaji,rews,shubhashish ji, rohit ji,annapurnaji bahut shukrana

    rews bahut hi sundar kavita hai,shukrana

    annapurna ji🙂 jarur padhya mein bhi likhenge

  18. जून 5, 2008 at 3:16 अपराह्न

    बहुत ही सुंदर अभिव्यक्ति है। ‘…अलसाया मौसम भीग रहा है’, ‘अनकहे दिल के राज़’ – भावों और शब्दों का सुंदर सामंजस्य कुल मिला कर उच्च स्तरीय लेखन और फिर तस्वीर जैसे बोल रही हो। बधाई हो।

  19. Heena said,

    जून 7, 2008 at 10:29 अपराह्न

    Umda… Kafi accha likha hia aap ne !!!🙂

  20. mehek said,

    जून 8, 2008 at 4:19 पूर्वाह्न

    mahavi sir ji,heena ji bahut shukrana

  21. Tosha said,

    जून 8, 2008 at 8:33 पूर्वाह्न

    Mehek … Thank You so much for all your appreciation.!!🙂

    chitthajagat mein to i have registered and posted my blog … lakin yeh blogvani main kaha post karte hai mujhe samajh main nahi aata … sorry ya meri hindi ithi acchi nahi… please help!!

  22. RAZIA MIRZA said,

    जून 14, 2008 at 2:25 अपराह्न

    पहली बुंद में बहुत ही जादु है

  23. mehhekk said,

    जून 15, 2008 at 3:40 पूर्वाह्न

    tosha ji,razia ji shukrana

  24. alpana said,

    जून 15, 2008 at 8:50 पूर्वाह्न

    arre wah mahak ye andaaz to bada nirala hai—tumhari baarish ki tasweer to bahut hi pasand aaya….
    bahut pyara bheena bheena likha hai Mahak..


एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: