सबल,सजल,सरल

सबल,सजल,सरल,सढल,सुगंधा,स्वस्तिका
बेड़ियाँ को तोड़ कदमो ने ढूंढी है नयी दिशा |

ममतामयी,कोमल हृदय,कनखर भी मैं नारी
वक़्त पड़े जब रक्षा करने बनू तलवार दो धारी |

बहेती रहूंगी हरियाली बिछाती पाने अपना लक्ष
अर्जित करूँ  इतनी आज़ादी कह सकु अपना पक्ष |

हर जीवन फलता फूलता जिस पे मैं हूँ वो शाख
सुलगती चिंगारी हूँ चाहूँ बुरी रस्मे हो जल के राख |

7 टिप्पणियाँ

  1. ila said,

    जून 7, 2008 at 5:09 पूर्वाह्न

    महक, काफ़ी दिनों के बाद आपके ब्लौग पर आना हुआ तो पिछली सारी कवितायें एक ही बार में पढ डाली.आप बहुत अच्छा लिखती हैं,आपकी सभी रचनाओं के लिये बधाई.

  2. जून 7, 2008 at 6:37 पूर्वाह्न

    सबल,सजल,सरल,सढल,सुगंधा,स्वस्तिका
    बेड़ियाँ को तोड़ कदमो ने ढूंढी है नयी दिशा |

    सुंदर है यह रचना भी महक जी

  3. कुश said,

    जून 7, 2008 at 11:34 पूर्वाह्न

    वक़्त पड़े जब रक्षा करने बनू तलवार दो धारी |

    बहुत बढ़िया.. बहुत ही गहरी बात कही आपने इस पंक्ति में

  4. lovelykumari said,

    जून 7, 2008 at 11:56 पूर्वाह्न

    aauraten aisi hi hoti hai.bahut achchhi prastuti..

  5. rohit said,

    जून 7, 2008 at 5:47 अपराह्न

    हर जीवन फलता फूलता जिस पे मैं हूँ वो शाख
    सुलगती चिंगारी हूँ चाहूँ बुरी रस्मे हो जल के राख

    yaar, chingari to hai tummhe per dodhari talwar to nahi dikhi, kiyoki dhodari talwar apne per bhi waar karti hai, so chiangari to jordaar ho, or haa sulgti hui changri ho….wasise bhi aurat chiangari hoti hai,,,,agar sab ho jaye to desh ka bhala ho jaye yaar…..
    rohit

  6. Rewa Smriti said,

    जून 8, 2008 at 1:16 अपराह्न

    ममतामयी,कोमल हृदय,कनखर भी मैं नारी
    वक़्त पड़े जब रक्षा करने बनू तलवार दो धारी |

    sabal sajal sahaj…. shradhha roopi nari….

    nice dear….duwa karti hun bus aapki kalam chalti rahe..!

  7. Nandini said,

    मार्च 7, 2011 at 6:46 अपराह्न

    Good,Nari ki pehechan hai pake kalam mai…


एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: