अधूरापन

अधूरा

इच्छायें , आकांक्षायें
क्या सिर्फ़ तुम्हारी ही होती है ?
जो के हमेशा पूरी होनी चाहिए
दिन भर काम करके 
मैं भी थक जाती हूँ
पर तुम्हे उससे कोई सरोकार नही
तुम्हे जो चाहिए तुम छिन लेते हो
कभी प्यार से , कभी हक़्क़ जता कर
और मेरी भावनाओ का क्या ?
जब तुम थक कर  आते हो
बात  भी नही करते
प्यार का स्पर्श बहुत दूर 
मेरे मन की आग काया में जलती है
कामिनी धग धगती है
शायद सुबह तक
बुझ भी जाती होगी
मगर एक अधूरेपन की चिंगारी सुलगा के…….

9 टिप्पणियाँ

  1. Dr Anurag said,

    जुलाई 2, 2008 at 1:29 अपराह्न

    दिल से निकली सीधी बात न कोई लफ्जों का जाल ,न कोई कविता के पेंच …..मैंने महसूस की है..ये कविता…..

  2. जुलाई 2, 2008 at 1:44 अपराह्न

    bhut acche Mahakji.

  3. Rewa Smriti said,

    जुलाई 2, 2008 at 2:55 अपराह्न

    इच्छायें , आकांक्षायें
    क्या सिर्फ़ तुम्हारी ही होती है ?
    जो के हमेशा पूरी होनी चाहिए
    दिन भर काम करके
    मैं भी थक जाती हूँ

    Jo samjh gaye in sawalon ke jaal ko samjho unka jeevan safal ho gaya! Bahut hi sidhe shabdon mein sochniy vichar. Mehek bahut Khubsurat hai!

  4. जुलाई 2, 2008 at 5:26 अपराह्न

    इच्छाएँ, आकांक्षाएँ ? ये कब से स्त्रियों के शब्दकोष में आ गईं ? कहीं कुछ गलत है। लालन पालन में कुछ कमी ! अरे, ये सब तो केवल पुरुषों की होतीं हैं। जो हाथ आ जाए उसे लपक लीजिए और अपने भाग्य पर इतराइए।
    घुघूती बासूती

  5. जुलाई 2, 2008 at 10:39 अपराह्न

    इमानदार अभिव्यक्ति. बहुत उम्दा.

  6. mehek said,

    जुलाई 3, 2008 at 4:53 पूर्वाह्न

    aap sabhi ka bahut shukran

  7. Taeer said,

    जुलाई 4, 2008 at 7:17 पूर्वाह्न

    ek ek lafz chingari jaisa…aur koi ghumavat nahin…sidha sidha vaar…LAJAWAAB….

  8. Annapurna said,

    जुलाई 5, 2008 at 8:42 पूर्वाह्न

    सीधे सपाट शब्दों में अपनी बात कह दी। कविता में ढालती तो शायद अभिव्यक्ति अधूरी रह जाती।

  9. Heeren said,

    जनवरी 10, 2009 at 7:39 अपराह्न

    bahot hi badhiya likha hai ….koi ha meri apni jo shayd kisi se yahi kehna chahti hai . lekin me uske liye kuch nahi kar pata


एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: