यूही दिल आज फिर

यूही दिल आज फिर रोया अपने ही फ़ैसले पर

 

 

गोया जहाँ से चला था आज वही खड़ा हुआ है |

 

 

 

इतना लंबा रास्ता चुना है हमने अनजाने या जान बूझकर

 

सफर पर चलते कदम रुकते नही , इन्तेहा की हद्द हुई है |

 

zindagi ke kuch tukde yaha vaha bikhar gaya hai,samet rahi hun, nahi jam raha,

jod kar bhi darare badh rahi hai,jane to diya badal ko ,magar barsaat nahi rukti,

muskurana kehna kitna aasan ,magar haqiqat mein mushkil kyun hota hai, hum tho

kabhi aise na thay , ye hame na jane kya hua hai.kisi mod par kadamon ko rukna jaruri hota hai,

magar hamare kadam nahi ruk rahe,jab thoda tufan ruk jaye,shayad khusbu aayegi.

27 टिप्पणियाँ

  1. ranju said,

    जुलाई 17, 2008 at 11:18 पूर्वाह्न

    क्या हो गया है जी महक बहुत उदास सी पोस्ट लगती है यह जो कुछ न कह कर भी बहुत कुछ कह रही है ..
    यह कैसी दिल पर आज बदरी फ़िर से छाई है
    जो न बरसती है खुल के न ही छंट पायी है !!

    रंजू

  2. meenakshi said,

    जुलाई 17, 2008 at 11:51 पूर्वाह्न

    जब भी किसी तरह की चाहत पैदा होती है… तब ऐसी ही उदासी छाती है…🙂 तूफ़ान रुकने की चाहत क्यों… महक तो तूफ़ान के होने पर भी नही रुकती….

  3. pallavi said,

    जुलाई 17, 2008 at 12:15 अपराह्न

    bhagwan kare tumhari sari mushkilen khatm ho jayen aur zindgi aasan…jeevan ki mahak hamesha barkaraar rahe.

  4. Dr Anurag said,

    जुलाई 17, 2008 at 12:58 अपराह्न

    pallavi ki baat par ek hi bat kahunga…….Aameen…..

  5. जुलाई 17, 2008 at 1:10 अपराह्न

    Haan humaree saree Duaeyein aapke saath hain Mehek ji …
    Cheers !!

  6. Sameer Lal said,

    जुलाई 17, 2008 at 5:45 अपराह्न

    ये क्या हुआ जी??

  7. Annapurna said,

    जुलाई 18, 2008 at 9:36 पूर्वाह्न

    हमारी शुभकामनाएँ आपके साथ है।

  8. जुलाई 18, 2008 at 4:56 अपराह्न

    bhai ham sabhi blaagar apke sath hai .

  9. rohit said,

    जुलाई 18, 2008 at 5:26 अपराह्न

    Mehak
    Udasi Kitni Bhi Ho Mehak Rukti Nahi, Kathte hai badal Nahi barsate to Naina Barste hai, Per Mehak Ki Ankho me Aaanso kiyon…..
    Kahi Tumhe Pyare To Nahi…
    Rohit

  10. जुलाई 18, 2008 at 7:17 अपराह्न

    महक जी…. इतना ही कहूँगा कभी कभी बिखरे हुए मोती एक माला से ज़्यादा खूबसूरत लगते हैं…. और कभी कभी बिरह के पल मिलन की रातों से ज़यादा सुनहरे लगते हैं….

    जब खुशी पे कोई सवाल नही किया तो गम का शिकवा कैसा….

    Enjoy this also…. jayada din nahi rahega…. don’t miss…!!!

  11. Ila said,

    जुलाई 22, 2008 at 7:48 पूर्वाह्न

    महक बहुत समय के बाद आपके यहां चली आयी.देखा उदासी बिखरी पडी है.दुआ करती हूं कि आपकी ज़िन्दगी को तरतीब मिले और आप हमेशा महकती रहें

  12. mehek said,

    जुलाई 23, 2008 at 3:12 पूर्वाह्न

    aap sabhi doston ka tahe dil se shukran,hamare bikhare pal mein aap hamare saath rahe,ab kuch kohra hata hai,magar kuch vyast hun,shayad phir jaldi laut aaun,aap sabhi ko padhna miss karte hai hum,kabhi kabhi kuch baatein jyada jaruri hoti hai,beman se padhna pasand nahi hame,,dosti ki mehek liye phir aane tak hame bhulen nahi:)

  13. vipin jain said,

    जुलाई 23, 2008 at 2:20 अपराह्न

    achcha hai

  14. rohit said,

    जुलाई 23, 2008 at 5:32 अपराह्न

    theek hai theek hai
    jao tum chaye jaha, per lot ke aana jaldi
    apne blog per likhna kuch jaldi.
    rohit

  15. rasprabha said,

    जुलाई 25, 2008 at 4:58 अपराह्न

    mahak kahan ho,apni aisi pyaari rachnaaon ke
    saath aao,aur jyada achha likh ke kuch suna jao

  16. paramjitbai said,

    जुलाई 26, 2008 at 2:21 अपराह्न

    अच्छा लिखा है।

  17. जुलाई 28, 2008 at 7:59 पूर्वाह्न

    इतना लंबा रास्ता चुना है हमने अनजाने या जान बूझकर
    सफर पर चलते कदम रुकते नही , इन्तेहा की हद्द हुई है |

    कारवां बन जायेगा,चलते चले बस जाइये
    मंजिलें खुद ही कहेगी,स्वागतम हॆ आइये
    विक्रम

  18. जुलाई 28, 2008 at 12:28 अपराह्न

    महक जी
    आपकी रचना “यूही दिल…” पढ़ने के बाद खासकर ” इतना लंबा रास्ता………” कुछ पंक्तियां सूझी व पूर्व टिप्पणी मे लिख दी, बाद मॆने उसमे ऒर पंक्तियां जोड कर अपनी पोस्ट पर प्रकशित की हॆ कृपया उनका भी अवलोकन करे.

    कारवाँ बन जायेगा,चलते चले बस जाइये
    मंजिले ख़ुद ही कहेगी,स्वागतम् हैं आइये
    पीर को भी प्यार से,वेइंतिहाँ सहलाइये
    आशिकी में डूबते ,उसको भी अपने पाइये
    हैं नजारे ही नहीं काफी, समझ भी जाइये
    देखने वाले के नजरों में ,जुनूँ भी चाहिये
    बुत नहीं कोई फरिश्ते,वे वजह मत जाइये
    रो रहे मासूम को,रुक कर ज़रा दुलराइये
    टूटती उम्मीद पे,हसते हुए बस आइये
    अपने पहलू में नई,खुसियां मचलते पाइये

    विक्रम

    टूट

  19. Shama said,

    अगस्त 2, 2008 at 2:50 अपराह्न

    Lagaa meelon faasle tay kiye,
    Poore dinme hamare pairon ne!
    Shaam huee to dekhaa,
    Ham waheen khade the,
    Wo meelkaa patthar,
    Dhoolse sana huaa,
    Chand jhaadiyonme chhupaa,
    Ab bhee waheen khada thaa,
    Jahanse, ham subah savere
    Nikal pade the!
    To ham itnaa
    Kyon thak gaye?
    Kya hua jo
    Qadam ruk gaye?

  20. menka said,

    अगस्त 6, 2008 at 9:44 अपराह्न

    I feel u r a strong person.
    ye samay kabhi dukh kabhi sukh lata hai
    samay hi sabhi sawaalon ka jabab, sabhi dard ki dawa hai.
    keep ur spirits high.

  21. Rewa Smriti said,

    अगस्त 9, 2008 at 4:22 पूर्वाह्न

    Hi Mehek, come back soon!
    Come soon on the track…..Still long way to go….🙂

  22. rasprabha said,

    अगस्त 11, 2008 at 12:12 अपराह्न

    missing u

  23. rohit said,

    अगस्त 12, 2008 at 6:47 अपराह्न

    Hey Mahak
    Yaar ab wapas aajao, Akhir hua kia, Dost se bhi share karo. Hum sab saath hai.
    rohit

  24. raj said,

    अगस्त 19, 2008 at 10:08 पूर्वाह्न

    listen mahak,
    suni rahe bhi kahti hai, ab to chidhiya chahak,
    warna rooth jayegi is baagon se mahak.
    kaan bhi tarsegi sunne ko chahal,

    so….be happy mahak.

    aapka raj……

  25. Kaunquest said,

    अगस्त 25, 2008 at 9:08 पूर्वाह्न

    great post!🙂 i can relate to the thought.. har taraf hai daraaren.. ye na thii apni raahen.. glad to find your blog and do visit mine,

    sochaa tha ek mai hi tha raah-e-ishq mein gumshudaa
    is dasht mein lahoo luhaan, mile tumhaare bhi naqsh-e-paa..

    -kaunquest

  26. अगस्त 21, 2010 at 5:57 पूर्वाह्न

    ek masoom sa chehra

  27. अगस्त 21, 2010 at 6:10 पूर्वाह्न

    क्या भरोसा है जिंदगानी का
    आदमी बुलबुला है पानी का
    ये दुनिया तो है दो दिन का मेला
    भरा है जिसमे अपना-पराया झमेला!
    भले ही आदमी-आदमी से भेद करता है
    पर अंत सबको बराबर कर देता है!


एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: