दिल जब चाँद बने

        बड़ी दुविधा में है आज हम | हमारा नाज़ुक सा दिल एक कोने रूठा बैठा है |
वजह पूछी रूठने की ,कहता है उसे ईर्षा हुई है,वो भी खूबसूरत चाँद से | अजी
हमारा दिल और ईर्षा तौबा,खूबसूरती से वो इश्क़ ज़रूर कर सकता है,मगर
ये उल्टा पानी आज कैसे बहने  लगा
             
खैर सबके मूड बदलते रहते है,शायद दिल भी | जिद्द कर रहा है वो चाँद
बनके ही दिखलाएगा | अब हमे तो दोनो से समान प्यार है,अपने दिल से भी और
मनमोही चाँद से भी | आख़िर हमारे मन ने फ़ैसला कर लिया वो इन दोनो के बीच
ना ही पड़े अच्छा है | आसमान में दिल चमके या चाँद ,वो दोनो ही हमारे अपने है |
बस एक इल्तजा आसमान से करेंगे….

 

 

 

 

 

हमारा दिल जब चाँद की जगह ले लेगा
आसमान
तेरा एक टुकड़ा उसे रहने को
दे देना
चाँदनी कही 
ये ना समझे के कोई अजनबी आया है

 

21 टिप्पणियाँ

  1. makrand said,

    नवम्बर 8, 2008 at 1:03 अपराह्न

    bahut khub

  2. नवम्बर 8, 2008 at 1:10 अपराह्न

    हमारा दिल जब चाँद की जगह ले लेगा
    आसमान तेरा एक टुकड़ा उसे रहने को दे देना
    चाँदनी कही ये ना समझे के कोई अजनबी आया है

    bahut sundar panktiyan. vah bhai man moh liya hai . dhanyawad.

  3. arsh said,

    नवम्बर 8, 2008 at 1:32 अपराह्न

    bahot khub ,kya badhiya bhav dala hai aapne …dhero sadhuvad…

  4. Dr Anurag said,

    नवम्बर 8, 2008 at 1:54 अपराह्न

    हाय ! क़त्ल है ये तो

  5. parul said,

    नवम्बर 8, 2008 at 3:09 अपराह्न

    waah!!

  6. नवम्बर 8, 2008 at 3:44 अपराह्न

    wow!……………………
    ALOK SINGH “SAHIL”

  7. नवम्बर 8, 2008 at 4:03 अपराह्न

    चाँदनी कही ये ना समझे के कोई अजनबी आया है ..

    -बहुत गहरे उतरे झरने के साथ भाव!! वाह!!

  8. नवम्बर 8, 2008 at 4:11 अपराह्न

    क्या बात है,यह अदा भी खुब जंची.
    धन्यवाद

  9. MEET said,

    नवम्बर 8, 2008 at 5:51 अपराह्न

    Waah ! Bahut khoob.

  10. ranju said,

    नवम्बर 9, 2008 at 2:09 पूर्वाह्न

    बहुत सुंदर ..

  11. mehek said,

    नवम्बर 9, 2008 at 3:03 पूर्वाह्न

    sabhi ka bahut shukran

  12. shobha said,

    नवम्बर 9, 2008 at 5:53 पूर्वाह्न

    बहुत प्रभावी लिखा है. सच्ची अनुभूति.

  13. नवम्बर 9, 2008 at 7:56 पूर्वाह्न

    Aapki sabhi rachnaayen achchi hain. Badhai.

    guptasandhya.blogspot.com

  14. Prashant said,

    नवम्बर 9, 2008 at 9:13 पूर्वाह्न

    bahut badhiya… mast…

  15. alpana said,

    नवम्बर 9, 2008 at 10:39 पूर्वाह्न

    bahut achcha!
    .’chandani kahin ye na samjhey ki ajnabi aaya hai—-
    kya baat hai!

  16. Rewa Smriti said,

    नवम्बर 9, 2008 at 4:58 अपराह्न

    हमारा दिल जब चाँद की जगह ले लेगा
    आसमान तेरा एक टुकड़ा उसे रहने को दे देना
    चाँदनी कही ये ना समझे के कोई अजनबी आया है
    Beautiful…Bhut khoob dear.

    आसमान में दिल चमके या चाँद ,वो दोनो ही हमारे अपने है! Bilkul sahi kaha hai Mehek. But you know what….ye chand bhi kabhi kabhi hatthi ho jata hai….fir use mazbooran ye kahna padta hai ki…..

    “Aye Chand maine bhi ek chand dekha hai…
    Tumme to daag hai, maine bedaag dekha hai!”

    I love your post.

  17. arsh said,

    नवम्बर 9, 2008 at 5:14 अपराह्न

    bahot umda lekhan,gahari thinking with gr8 confidence.. bahot pasand aayi ye bat … aapko dhero badhai….

  18. ताऊ रामपुरिया said,

    नवम्बर 9, 2008 at 6:20 अपराह्न

    बहुत बेहतरीन ! शुभकामनाएं !

  19. नवम्बर 10, 2008 at 6:50 पूर्वाह्न

    चांदनी तो हमसाया है चांद की
    दोनों की राह तकता है आसमान
    जानता है
    अधूरा है वह
    दोनों के बिना ।

  20. umesh kumar said,

    नवम्बर 10, 2008 at 10:55 पूर्वाह्न

    dil to hamesh hi chamkta rahta hai baat chand ki, wh to mahine men kewal 15 din hi chamkta hai. isliye aap dil ko chand u banaye. chand ko hi dil bana len

  21. Shama said,

    नवम्बर 18, 2008 at 3:31 अपराह्न

    Oh ! Itne saare comments aur muhse “wah” ke alawa nikalbhee kya sakta hai??
    Kisqadar nafaasatse bhara nazuk-sa khayal…sach kehte hain Anuraagji..”Ye to qatl hai”!

    Mehek, gar aap 2007ke archivesme jaake dekhen to sabse puraanee postsme ye hain….blogkee shuruat maine English me kee thee.Ab mai apne blogpe jaake phir ekbaar exact date confirm kar dungee, theek hai ?
    Aur dekhtee hun ki mera Marathi blog activate kar paatee hun ya nahee…lekin mai aapko ek e-zine kee link detee hun, jahan mera adhiktar Marathi lekhan prakashit ho gaya…ya aage bhee hoga:
    http://www.antaraal. com
    Yahanpe 2005 ki Novemberse mere lekhanka prakashan aarambh huaa tha.
    “Ya chimnyano! Parat Phirare”, ye pehla lekh hai aur baadme, “Kshan Sarlele”, ye kitab serialised hai…uske baad “Jaa, Uduni Jaa Pakhara!”. Iske alawa, kuchh kahaniya aadi hain.


एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: