वॉचमन

वॉचमन

हमारे गुलाब के पौधे को काफ़ी दीनो बाद खूबसूरतसा गुलाब खिला | केसरिया रंग का ,बड़ी  बड़ी
पंखुड़िया और खुसबुदारजब से गुलाब खिला है तब से ही उसकी निगरानी शुरू हो गई थी |
नही उसके पास किसी को जाने  की इज़ाज़त और नही हाथ लगाने की | फिर तोड़ना बहुत दूर 
की बात रही | सोचा था अपने बालों में लगा लेंगे , मगर हमारे मन सूबे पर तो दही जम गया |

      बात ये हुई के जब उस पौधे की कटाई छटाई हो रही थी तब हमारे डॉग्गी महाराज भी आए 
और दो चार जगह उन्होने भी अपने नुकीले दातों से कटाई कर दी | फिर खाद डालने के लिए आजू बाजू 
गड़डा भी बना दियारोज पानी डालते वक़्त वाहा मौजूद भी रहते | शायद डॉग्गी जी को भी गुलाब 
का इंतज़ार था | इतनी मेहनत जो की थी :) | 

जिस दिन कली खिली सुबह ही भौंक भौंक कर पूरे घर को इतल्ला मिल गयी | हमसे ज़्यादा
खुशी उसके मुख थी | फूल के आस पास भाग भाग के आनंद की अभिव्यक्ति हुई | जैसे  ही
हम फूल तक पहुँचे गुर्रा कर हाथ लगाने की मनाही हो गयी | पास पड़ी छोटी लकड़ी मूह उठाए
गुलाब की वॉचमन गिरी शुरू हो गयी | खाना सोना सब वही पे | चार  दिन  शाम को
घूमने के लए ज़िद्द भी नही की | 
   
   आज सुबह से नाराज़ है, खाना खाया , उछाल कूद हुई | आज सारी पंखुड़ी फूल से गिर
गयी | हम सोच रहे थे प्राणियों  में भी कितनी सवेदना होती है | शायद मनुष्य से ज़्यादा ही |
उमीद है और एक कली खिले और ये उदासी छूमंतर हो |

14 टिप्पणियाँ

  1. pallavi trivedi said,

    नवम्बर 17, 2008 at 7:16 पूर्वाह्न

    are..apne doggy se kahiye..itna udaas nahi hote.ab sardiyaan aa gayi hain to khoob phool khilenge.

  2. नवम्बर 17, 2008 at 8:10 पूर्वाह्न

    डॉगीस बड़े संवेदनशील होते हैं, इसमे कोई दो मत नहीं है. हमारी डॉगी तो गुलाब क़ी पत्तियों को चट कर जाती थी. आभार.

  3. ranju said,

    नवम्बर 17, 2008 at 12:03 अपराह्न

    पशु पक्षी भी संवेदनशील होते हैं …:)यह तो दिखता ही है

  4. VIVEK SINGH said,

    नवम्बर 17, 2008 at 1:09 अपराह्न

    पशु पक्षियों में कुछ शक्ति मानव से अलग होती है . इसीलिए तो भूकम्प आने से पहले ही ये हलचल करने लगते हैं . ऐसे और भी उदाहरण हैं . आपने क्या इनको लल्लू समझा था .

  5. akshaya-mann said,

    नवम्बर 17, 2008 at 2:22 अपराह्न

    sochne wali baat hai……….
    udasi jaroor mitegiiiiiiiiiiii……….

  6. Rewa Smriti said,

    नवम्बर 17, 2008 at 3:55 अपराह्न

    Ummeed per hi to duniya tiki hai….isliye hame to viswash hai ek kali fir khilegi aur aapke doggy mahraj ke chehre ki udasi per khushi ki chata jhalkegi.🙂

  7. नवम्बर 17, 2008 at 7:15 अपराह्न

    हम से ज्यादा संवेदनशील ओर वफ़ा दार यही तो होते है, मेरा हेरी भी कुछ ऎसा ही है, जब कभी खराब मोसम मे हम घुमनए लेजाते है इसे तो छाता साथ मे होता है, ओर छाता हमारा हेरी मुहं मे दबा कर बडी शान से हमारे कदमो से कदम मिला कर चलता है, मजाल हे कोई बाहर का आदमी उस समय उस छाते को हाथ लगा दे??
    धन्यवाद आप का लेख बहुत ही सुन्दर लगा.

  8. alpana said,

    नवम्बर 18, 2008 at 5:21 पूर्वाह्न

    bahut hi pyara doggy hai aap ka to..
    sach mein jaanvaron mein bhi samvednayen hoti hain..koi baat nahin phol phir khilega…:)

  9. rasprabha said,

    नवम्बर 18, 2008 at 6:19 पूर्वाह्न

    मानव-मन से कहीं ज्यादा संवेदनशील ये पशु-पक्षी
    होते हैं……..मेरी आँखों के आगे एक गुलाब खिला
    सारे दृश्य घूम गए,वर्णन सहज,सुन्दर,भावनात्मक है………

  10. RAJ SINH said,

    नवम्बर 18, 2008 at 10:00 पूर्वाह्न

    ……………..udasi choomantar ho ! kash ham un sab mantron ko apne ird gird dekhen…………jo ki bikhre pade hain.apne aas pass hee ! pashu pakchiyon me samvedna khojen to payenge ham insanon se kam naheen hai unke pas dene ke liye !………………..apko padh kar mehsoos hua ki vah dekh sun samajh pane kee aapme samvedna bhee hai aur rochkta se bayan karne ka mijaj bhee hai ! shubh kamnayen !

  11. Shama said,

    नवम्बर 18, 2008 at 12:52 अपराह्न

    Khwobonse haqeekat khareedna…! Behad anootha khayal hai…! Aap gazabka likhteen hai !
    Are aur aapke blogpe Maratheeme bhi likha gaya dikh raha hai…abhi to mujhe log out karna pad raha hai par mauqa miltehee laut aaungee…mera adhiktar lekhan Maratheeme hee hai !
    Kaise likhna ye aapse pata kar sakteeen hun ?Mera blog teeno bhashaonke liye banaya tha…

  12. arsh said,

    नवम्बर 18, 2008 at 3:54 अपराह्न

    bahot khub likha hai mahak ji aapne,,jis samvedanshilata se aapne ye prastuti di hai wah maza aagaya ,,, khas kar doggy me kisi bhi chij ko lekar kafi samvedana hoti hai … aapki bat satya hai mere pas bhi ek kahani hai isse related aur wo bhi khub hai …..
    ese prastuti ke liye aapko dhero badhai …….swikaren……..

  13. नवम्बर 18, 2008 at 5:43 अपराह्न

    चलिए भला संवेदना विहीन लोगो शायद इससे कुछ प्रेरणा मिल सके .

  14. नवम्बर 19, 2008 at 9:49 पूर्वाह्न

    adbhut abhivyakti. waakai aapkee chahton kaa jawaab naheen .
    ek kalee khile .are mai to kahta hoon ki samvedna ke samunder mein kaliyon ke bag khil jaayen.
    hardik shubhkamnaayen.


एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: