यादों की सिगरेट जलाए धुए के छल्ले उड़ाना

आईने के सामने खड़े हो घंटो तैय्यर होना
एंगल बदल बदल के खुद से मुस्कुराना

नाश्ते मे अम्मा गरम पराठे परोसती
वजन कंट्रोल करने भूख न होने का बहाना

पढ़ाई के नाम पर हाथो में होती दो किताबे
कॉरिडोर में दोस्तों से क्लास बन्क कर गप्पे लढाना

कॅंटीन का वडा पाव, तली हुई कचौड़िया चलती
तब डाइटिंग के भूत को थोड़ी देर वास्ते भुलाना

गॅदरिंग के टाइम रात रात भर रिहर्सल होती
हॉस्टिल की गलियों में शोर हुल्लड़ मचाना

फुरसत के वो लम्हे अपना हक माँगे हमसे
नही दे सकते उन्हे वक़्त का नज़राना

इतना ही कर सकती महेक कभी कबार
यादों की सिगरेट जलाए धुए के छल्ले उड़ाना

27 टिप्पणियाँ

  1. Lucky said,

    जनवरी 4, 2009 at 10:00 पूर्वाह्न

    इतना ही कर सकती महेक कभी कबार
    यादों की सिगरेट जलाए धुए के छल्ले उड़ाना….

    heheheh ……….simply great🙂

  2. जनवरी 4, 2009 at 10:11 पूर्वाह्न

    बहुत खूब..

  3. ranju said,

    जनवरी 4, 2009 at 11:37 पूर्वाह्न

    बढ़िया यादे हैं यह भी🙂

  4. shashwat said,

    जनवरी 4, 2009 at 11:49 पूर्वाह्न

    jee haan yaaden kuch aisi hi hoti hain, baaten bhool jaati hain, yaaden yaad aati hain.

  5. जनवरी 4, 2009 at 1:19 अपराह्न

    हर फ़िक्र को धुंए में उडाता चला गया . वाह बहुत बढ़िया .

  6. जनवरी 4, 2009 at 1:19 अपराह्न

    आप ने तो बचपन ही याद दिला दिया.
    बहुत सुंदर कविता
    धन्यवाद

  7. जनवरी 4, 2009 at 1:25 अपराह्न

    कॅंटीन का वडा पाव, तली हुई कचौड़िया चलती
    तब डाइटिंग के भूत को थोड़ी देर वास्ते भुलाना

    क्‍या बात है तभी तो घर पर परांठे नहीं खाते थे अच्‍छा लिखा है

  8. Digamber said,

    जनवरी 4, 2009 at 2:40 अपराह्न

    पढ़ाई के नाम पर हाथो में होती दो किताबे
    कॉरिडोर में दोस्तों से क्लास बन्क कर गप्पे लढाना

    कोलेज के दिनों की याद दिला दी, वो भी क्या दिन थे
    खाती मीठी यादों से भरी है आप की रचना

  9. जनवरी 4, 2009 at 4:10 अपराह्न

    Nav varsh ki hardik shubkamnayen.

  10. Rewa Smriti said,

    जनवरी 4, 2009 at 4:49 अपराह्न

    फुरसत के वो लम्हे अपना हक माँगे हमसे
    नही दे सकते उन्हे वक़्त का नज़राना

    Bahut khub Mehek….kitne sab vivash hain aaj samayabhav mein, fursat ke chand lamhe bhi kabhi kabhi nahi nikal sakte hain apnon ke liye.

  11. जनवरी 5, 2009 at 6:42 पूर्वाह्न

    behad khoobsoorat likha hai, ham bhi apne hostel ke dino me laut gaye.

  12. rashmi prabha said,

    जनवरी 5, 2009 at 7:41 पूर्वाह्न

    aapne to beete manjron ko saamne rakh diya,
    bahut badhiyaa

  13. जनवरी 5, 2009 at 2:50 अपराह्न

    अनूठी रचना मैम….वाह
    मनमोहक
    हमने तो खैर कालेज देखा ही नहीं,किंतु अंदाजा लगा सकता हूं इन मस्तियों का

  14. akshaya-mann said,

    जनवरी 5, 2009 at 5:47 अपराह्न

    जीती-जागती रचना…..
    अच्छा संगम है अपने जज्बातों का खुबसूरत चित्रण….

  15. vishal said,

    जनवरी 6, 2009 at 12:52 अपराह्न

    Jindagi k beete pal bas yaad hi aate hai, kashhhhh ham unhe dobara G sakte.
    ———————–“VISHAL”

  16. alpana said,

    जनवरी 6, 2009 at 2:53 अपराह्न

    फुरसत के वो लम्हे अपना हक माँगे हमसे
    नही दे सकते उन्हे वक़्त का नज़राना

    arrey itni pyari si yaadon ko liye kavita kaise meri nazar se rah gayee??
    sundar kavita Mahak.
    Naye saal ki dheron shubhkamnayen..tumhen aur tumhare ghar mein sabhi ko yah varsh bahut bahut mubaraq ho.

  17. ramadwivedi said,

    जनवरी 6, 2009 at 3:46 अपराह्न

    बचपन की यादों की सुन्दर अभिव्यक्ति…नववर्ष की अनन्त शुभकामनाएँ।

  18. wasimquadri said,

    जनवरी 6, 2009 at 4:06 अपराह्न

    Gaye hue ruton ki khushboo, jaate hue kadmo ki chap, kab laute hain.humen to hamesha aina batata hai, guzar gaya waqt maa ki terah ….. haan tanhai men aur andhere me har koi bachcha ho jaata hai, aur uske samne bhune hue shakarkand, maa ke hath ka nevala, galiyon ka shor, sab jee uthta hai aur phir call bell ki ghanti bajti hai phir sab ojhal, roshni, aaina ek dusre ko taqta hai, main samne wale ko welcome karta hun.

  19. जनवरी 6, 2009 at 4:33 अपराह्न

    Gaye hue ruton ki khushboo, jaate hue kadmo ki chap, kab laute hain.humen to hamesha aina batata hai, guzar gaya waqt maa ki terah ….. haan tanhai men aur andhere me har koi bachcha ho jaata hai, aur uske samne bhune hue shakarkand, maa ke hath ka nevala, galiyon ka shor, sab jee uthta hai aur phir call bell ki ghanti bajti hai phir sab ojhal, roshni, aaina ek dusre ko taqta hai, main samne wale ko welcome karta hun.

  20. Smart Indian said,

    जनवरी 7, 2009 at 12:05 पूर्वाह्न

    Getting nostalgic!

  21. Kajal Kumar said,

    जनवरी 7, 2009 at 5:16 पूर्वाह्न

    कार्टून ” दम है तो मनवा के देख…” पर आपकी प्रतिक्रिया के लिए विनम्र आभार.

    सादर,
    काजल कुमार

  22. jeetu said,

    जनवरी 8, 2009 at 5:20 पूर्वाह्न

    Awesome…

    Carry on the goodwork.

  23. Shekhar said,

    जनवरी 11, 2009 at 6:25 अपराह्न

    Bahut sundar saral aur saarthak abhivyakti hai…Dil ko chooti bhi hai tatolti bhi hai aur khangaalti bhi hai….

  24. tapashwani said,

    जनवरी 15, 2009 at 7:08 पूर्वाह्न

    aapne to college ki poorani yaad taza kar di……..

    bahut badiyaan

  25. विनय said,

    जनवरी 15, 2009 at 7:12 पूर्वाह्न

    लिखती रहिए हम पढ़ते रहेंगे

    बहुत ही सुन्दर रचनाएं

    —मेरा पृष्ठ
    चाँद, बादल और शाम

    —मेरा पृष्ठ
    तकनीक दृष्टा/Tech Prevue

  26. sheir khan said,

    मई 6, 2009 at 6:33 पूर्वाह्न

    aap ajeeb,aap ki sonchen ajeeb

  27. Dr Vishwas Saxena said,

    मई 6, 2009 at 7:05 पूर्वाह्न

    Dear Author
    a good effort to recapture memories of good old days.Rest assure you will remember this period also after ten years! Can I share onething try to reach an stage in your life by building a sound present that you never want your present to become past.regards and best wishes for a bright future.
    Dr Vishwas saxena


एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: