कहते थे न तुम

कहते थे न तुम
बहुत बोलती हूँ मैं
तेरे सिवा और कुछ न सोचती हूँ मैं
सुन लिया शायद उस ने
तेरा नाम सुनते ही
बिन मौसम खिलता है पलाश

तेरी तस्वीर लेकर
जब आँगन में बैठती हूँ
उस में अपनी छबि ढूंढता
बार बार झाकता , शरमाता
मुस्कुराता मिलता है पलाश …….

24 टिप्पणियाँ

  1. Shashwat said,

    जनवरी 8, 2009 at 2:47 अपराह्न

    वाह पलाश का नाम लेते ही कविता में रंग भर गए| ये फूल भी अजीब होते हैं|

  2. Amit said,

    जनवरी 8, 2009 at 2:50 अपराह्न

    तेरी तस्वीर लेकर
    जब आँगन में बैठती हूँ
    उस में अपनी छबि ढूंढता
    बार बार झाकता , शरमाता
    मुस्कुराता मिलता है पलाश …….

    bahut acchi rachna…….dil ko bhaa gayi…….

  3. rashmi prabha said,

    जनवरी 8, 2009 at 2:52 अपराह्न

    pyaar ke komal bhaw se apka blog khud palaash jaisa lagta hai,
    bahut sundar

  4. pallavi trivedi said,

    जनवरी 8, 2009 at 3:15 अपराह्न

    nice lines…

  5. विनय said,

    जनवरी 8, 2009 at 4:48 अपराह्न

    दिल की बात!

    —मेरा पृष्ठ
    चाँद, बादल और शाम

  6. विवेक सिंह said,

    जनवरी 8, 2009 at 7:18 अपराह्न

    बेहतरीन कल्पना ! सुन्दर कविता !

  7. जनवरी 8, 2009 at 8:09 अपराह्न

    सुन लिया शायद उस ने
    तेरा नाम सुनते ही
    बिन मौसम खिलता है पलाश …
    बहुत सुंदर…भाव
    धन्यवाद

  8. जनवरी 8, 2009 at 8:19 अपराह्न

    महक जी बहुत अच्छा लिखा है आपने ,
    पढ़ कर अच्छा लगा

  9. alpana verma said,

    जनवरी 8, 2009 at 8:27 अपराह्न

    wah!
    तेरा नाम सुनते ही
    बिन मौसम खिलता है पलाश
    kya khuub!

  10. जनवरी 9, 2009 at 12:06 पूर्वाह्न

    बहुत सुन्दर कविता, धन्यवाद.

  11. ranju said,

    जनवरी 9, 2009 at 4:40 पूर्वाह्न

    तेरा नाम सुनते ही
    बिन मौसम खिलता है पलाश

    बहुत सुंदर लिखा है आपने महक

  12. vijay kumar said,

    जनवरी 9, 2009 at 5:20 पूर्वाह्न

    aapne itni romantic rachana likhi hai ki bus poochiye mat … palaash ke phoolo ki upma ne jeevan de diya hai kavita ko ..

    bahut si badhai ..

    maine kuch nayi nazmen likhi hai , padhiyenga..

    vijay
    Pls visit my blog for new poems:
    http://poemsofvijay.blogspot.com/

  13. कुश said,

    जनवरी 9, 2009 at 6:26 पूर्वाह्न

    शब्दो में गर्माहट है.. बहुत बढ़िया

  14. जनवरी 9, 2009 at 8:26 पूर्वाह्न

    सुन लिया शायद उस ने
    तेरा नाम सुनते ही
    बिन मौसम खिलता है पलाश …

    गहरी अनुभूति लिए है यह नज़्म
    दिल की गहराइयों से निकली, शब्दों का जामा पहन कर कागज़ पर उतर गयी

  15. makrand said,

    जनवरी 9, 2009 at 10:46 पूर्वाह्न

    तेरी तस्वीर लेकर
    जब आँगन में बैठती हूँ
    उस में अपनी छबि ढूंढता
    बार बार झाकता , शरमाता
    मुस्कुराता मिलता है पलाश …….
    bahut khub

  16. जनवरी 9, 2009 at 3:26 अपराह्न

    सुंदर शब्द संयोजन मैम…..बहुत सुंदर…..पलाश की तरह ही ताजा

  17. arsh said,

    जनवरी 11, 2009 at 8:43 पूर्वाह्न

    महक जी आप इनदिनों कहाँ हो कुछ ख़बर ही नही … अरसे बाद आप नज़र आई …आपकी ये कविता भी बहोत खूब रही ढेरो बधाई आपको ..साथ में नव वर्ष की शुभकामनाएं …

    अर्श

  18. जनवरी 12, 2009 at 12:29 अपराह्न

    Main Bhi Kisi Ko Kahta Hun-Bahut Bolti Ho Tum…use ye kavita padhwaunga aur ab kabhi nahi kahunga ki tum bahut bolti ho…acha likha aapne. badhayi

  19. Rewa Smriti said,

    जनवरी 13, 2009 at 2:33 अपराह्न

    तेरी तस्वीर लेकर
    जब आँगन में बैठती हूँ
    उस में अपनी छबि ढूंढता
    बार बार झाकता , शरमाता
    मुस्कुराता मिलता है पलाश…

    Bahut Sunder!
    Palash ka naam aur main bhagti chali aai…aaoge jab tum sajna angna phool khile….barsega sawan jhum jhumkar…ki do dil aise mile…🙂

  20. Dr Anurag said,

    जनवरी 14, 2009 at 8:29 पूर्वाह्न

    देर से आने के लिए मुआफी…..लेकिन सच में बहुत खूब लिखा है .मन के भाव लिए हुए ……

  21. akshaya-mann said,

    जनवरी 14, 2009 at 2:14 अपराह्न

    गहरा लिखा है……..
    बहुत ही अच्छा लगा ……

    यादें आना भी प्यार की निशानी है .

  22. जनवरी 17, 2009 at 8:05 पूर्वाह्न

    तेरी तस्वीर लेकर
    जब आँगन में बैठती हूँ
    उस में अपनी छबि ढूंढता
    बार बार झाकता , शरमाता
    मुस्कुराता मिलता है पलाश ……

    मन को छूती सुन्दर रचना
    विक्रम.

  23. jha rahul said,

    फ़रवरी 5, 2009 at 12:27 अपराह्न

    Vo Nahi Mera Magar Us Se Mohabat Hai To Hai,
    Yeh Agar Rasmo Rivazo Se Bagawat Hai To Hai;

    Sach Ko Maine Sach Kaha Jab Keh Diya To Keh Diya,
    Ab Zamaneki Nazar Mein Ye Himaakat Hai To Hai;

    Dost Ban Kar Dushmano Sa Vo Satata Hai Mujhe,
    “Fir Bhi Us Pathar Dil Pe Marna Apni Fitrat Hai To Hai”;

    Kab Kaha Mainey Ki Vo Mil Jaye Mujhko,
    Uski Bahon Mein Dum Nikle Itni Hastrat Hai To Hai;

    Jal Gaya Parvana To Usme Shama Ki Kya Khata,
    Yun Raat Bhar Jalna-Jalaana Uski Kismat Hai To Hai;

    Vo Sath Hai To Zinda Hu,
    Meri Saanso Ko Uski Zaroorat Hai To Hai…..

    Dur They,Dur Renhenge Har Dum Ye Zamein Asmaan,
    Duriyon Ke Baad Bhi Dil Mein Kurbat Hai To Hai;

    Mainey Kab Kaha Tu Mil Hi Jae Mujhe,
    Par Gair Na Ho Jaye Itni Si Hasrat Hai To Hai;

  24. jha rahul said,

    फ़रवरी 5, 2009 at 12:29 अपराह्न

    Muddat say jiss kay waaste Dil bay qaraar tha
    Woh laut kar na aaya magar intezaar tha

    Jo humsafar tha chorr gaya raah may mujhe
    May phans gayee bhanwar main woh darya ke paar tha

    Manzil qareeb aayi to tum door hogaye
    Itna to tum batao kay yeh kaisa Pyaar tha

    Chilman giradi yeh kis ne dono ke darmiyan
    Na woh sakoon se betha, na mujh ko qaraar tha

    Yeh mukhtasar sa haal hai rukhsat ke waqt ka
    Ankhon main aansu aur Dil beqaraar tha

    Yeh baat umer bhar samjh na paayi may
    Kyun Dil mera us ka talabgaar tha
    sayar by jha ranjeet rahul


एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: