मौसम की पहली बारिश

मौसम की पहली बारिश हुयी है आज | साथ में चाँदी से ओले भी बरसे |
वैसे भी आसमान से गिरते बर्फ की ठंडक को महसूस करना हमें बड़ी मुश्किल
से ही नसीब होता है | याद है शायद दसवी कक्षा में होंगे,तब ओलों की बरसात
देखी थी | कितने ही ओले डिब्बे में बंद करके ,कई दोनी तक फ्रीज़र में रखे हुए थे |
आज चाह कर भी उन्हें समेट नहीं पाए | छुते ही पानी पानी हो गए | मगर मन
की ज़मीन पर इस बरसात की बूंदों का खनकना , बहुत रास आया |

ऐसा मर्ज़ लगा मन को ,हकीम कुछ न कर पाया
इन आवारा बरसातों में भीगना हमारी फितरत बन बैठी |

21 टिप्पणियाँ

  1. जून 6, 2009 at 4:23 अपराह्न

    लगता है बहुत दिनो बाद आप की यह सुंदर रचना पढी, ओर बहुत भाई, बिलकुल हम सब के दिल के भाव लिख दिये आप ने.
    धन्यवाद

  2. जून 7, 2009 at 2:09 पूर्वाह्न

    वाकई ये बचपन की बरसातों का अनुभव अब शायद व्यस्तता की वजह से नही हो पाता. शुभकामनाएं.

    रामराम.

  3. जून 7, 2009 at 5:37 पूर्वाह्न

    बचपन की यादे कब भूलती है।बस हम तरसते रह जाते हैं जब कभी हमारे आस पास से बच्चों को देखते हैं।बहुत सुन्दर लिखा है।

  4. जून 7, 2009 at 5:44 पूर्वाह्न

    इन आवारा बरसातों में भीगना हमारी फितरत बन बैठी |…

    Waah waah… meri hi baat kahi aapne shaayad. :))

    ~Jayant

  5. Razi said,

    जून 7, 2009 at 7:43 पूर्वाह्न

    ittefaq se blog padhne ka mauqa mila.bhut achcha laga
    veri nice

  6. Digamber said,

    जून 7, 2009 at 7:53 पूर्वाह्न

    ऐसा मर्ज़ लगा मन को ,हकीम कुछ न कर पाया
    इन आवारा बरसातों में भीगना हमारी फितरत बन बैठी

    वाह……. बारिश की फुहार में डूब कर लिखा है आपने ………………… मन को खींच कर बचपन में उतार दिया…….

  7. Alpana Verma said,

    जून 7, 2009 at 7:59 पूर्वाह्न

    वाह !
    क्या विवरण दिया है पहली बारिश का–
    ‘ओले हाथ लगाये और पानी हो गए!’

    महक आप भी मौसम का आनंद लिजीये–हम तो गरमी की मार झेल रहे हैं थोडी सी बारिशें यहाँ भी भिजवाना मत भूलना!

  8. rashmi prabha said,

    जून 7, 2009 at 9:07 पूर्वाह्न

    baarish ki fuhaaren aur aapki pyaari rachna ki sondhi khushboo….waah

  9. akshay-man said,

    जून 8, 2009 at 1:33 अपराह्न

    बहुत ही अच्छी तरहां से विवेचना की है पहली पहली बारिश की अच्छा लगा पड़ना….
    ये तो हर किसी को पसंद है/……………

    अक्षय-मन

  10. दीपक said,

    जून 10, 2009 at 7:26 अपराह्न

    सुन्दर रचना। समय के साथ हम चीजों को उतना महसूस नहीं कर पाते, शुक्र है बचपन की यादें तो संग हैं…… कुछ बचा रहेगा हमेशा जिसकी महक यूँ ही साँसों को महकाती रहेगी।

    शुभकामनाएँ।

  11. amar jyoti said,

    जून 11, 2009 at 2:45 पूर्वाह्न

    बहुत ही कम शब्दों में मन की बात! बधाई।

  12. paavanj said,

    जून 12, 2009 at 7:36 पूर्वाह्न

    Hi,

    After read this creation,just want to say that,’I am remembering last monsoon season’s first rain’

    Health Fitness Care Tips | Health Fitness Tips | Fitness Facts | Junagadh Information

    Its really very effective.

    -God Bless You!!

  13. जून 12, 2009 at 9:19 पूर्वाह्न

    वाह……. बहुत सुन्दर लिखा है।भाव से परिपूर्ण रचना..बहुत अच्छा लगा आप के ब्लाग पर आकर

  14. sajal said,

    जून 14, 2009 at 9:00 अपराह्न

    aaj bhi baarish me bhinga hoon aur ole bhi pade hai..mazaa aa gaya..heenkar aur is rachna ko padhkar

    http://www.pyasasajal.blogspot.com

  15. विनय said,

    जून 16, 2009 at 3:21 पूर्वाह्न

    भावनाओं और यादों का ख़ूब बख़ान किया है

  16. जून 16, 2009 at 4:38 पूर्वाह्न

    मौसम की पहली बारिश के क्‍या कहने। पर हम लोग तो अभी इंतजार ही कर रहे हैं।

    -Zakir Ali ‘Rajnish’
    { Secretary-TSALIIM & SBAI }

  17. जून 21, 2009 at 8:05 अपराह्न

    bahut hi umda..
    behad khoobsurat ahsaas…
    lajawab…
    be-misaal…

  18. जून 22, 2009 at 3:52 पूर्वाह्न

    तपती गर्मी में बारिश की पहली बून्दें
    बहुत आनन्द देतीं हैं।
    सुन्दर कविता,
    सुन्दर भाव।
    बधाई।

  19. जुलाई 8, 2009 at 1:53 अपराह्न

    कितने सुन्दर प्रयास थे वे जब ओलों को फ्रीज़र में सहेजा होगा, पर बदलते समय के साथ अब हर ऐसे प्रयास पर झाड़(तानों) की बारिश ही तो होती है,,,,,,,,,,,

    सुन्दर रचना, सुन्दर अनुभूति.
    बधाई.
    चन्द्र मोहन गुप्त

  20. Pravin Kothari said,

    जून 20, 2010 at 5:47 अपराह्न

    Sunder Rachana ……. Sunder Man……… Keep it up!


एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: