तेरी यादों का कम्बल

images

 

 

 

 

 

तेरी यादों का कम्बल लपेटकर घूमती है वो आजकल
गुलाबी ठंड को इससे बढ़िया गर्माहट  मिलेगी कोई

\\\\\\\\\\\\\\\\\\\\\\\\\\\\\\\\\\\\\\\\\\\\\\\\\

सदियों से बर्फ सी ,उमीद जमती रही दिल की परतों में
सर्द रातों को भी कपकपाते हुए देखा है हमने

14 टिप्पणियाँ

  1. om arya said,

    अक्टूबर 11, 2009 at 9:56 पूर्वाह्न

    behad gahare bhaw liye huye hai ….rachana

  2. अक्टूबर 11, 2009 at 10:13 पूर्वाह्न

    बहुत सुंदर जी…. यादो की गर्माहट.
    धन्यवाद

  3. अक्टूबर 11, 2009 at 10:33 पूर्वाह्न

    बहुत सुन्दर पंक्तियां!!

  4. rashmi prabha said,

    अक्टूबर 11, 2009 at 10:59 पूर्वाह्न

    yaadon ke dhaagon se bune kambal ki garmahat ke kya kahne

  5. अक्टूबर 11, 2009 at 1:00 अपराह्न

    सुन्दर अभिव्यक्ति.

  6. Mahfooz said,

    अक्टूबर 11, 2009 at 1:10 अपराह्न

    सदियों से बर्फ सी ,उमीद जमती रही दिल की परतों में
    सर्द रातों को भी कपकपाते हुए देखा है हमne,

    waah! bahut hi sundar abhi vyakti……..

  7. digamber said,

    अक्टूबर 11, 2009 at 1:34 अपराह्न

    सदियों से बर्फ सी ,उमीद जमती रही दिल की परतों में
    सर्द रातों को भी कपकपाते हुए देखा है हमने

    shabdon ko barf mein lipet kar lajawaab sher mein dhal diya hai aapne … kamal ka sher hai ..

  8. अक्टूबर 11, 2009 at 4:12 अपराह्न

    bahut sundar bhaavamay abhivyakti hai badhaaI

  9. M Verma said,

    अक्टूबर 11, 2009 at 4:48 अपराह्न

    यादों का कम्बल और गुलाबी ठंड
    वाह क्या खूब कहा है.
    बहुत सुन्दर

  10. Kusum said,

    अक्टूबर 12, 2009 at 3:26 पूर्वाह्न

    भावपूर्ण रचना . बधाई!!

  11. alpana said,

    अक्टूबर 12, 2009 at 5:45 पूर्वाह्न

    waah! kya baat hai..

    gulabi thand aa hi gayi..lagta hai..

  12. अक्टूबर 12, 2009 at 12:57 अपराह्न

    Bahut hee sunder mehek jee aapke kambal se hume bhee garmahat mil gaee.

  13. preeti tailor said,

    अक्टूबर 13, 2009 at 4:27 पूर्वाह्न

    sanvedana se behtar kaunsa kambal ho sakata hai ….
    bahut garmahat hai ….

  14. अक्टूबर 31, 2009 at 12:19 अपराह्न

    सदियों से बर्फ सी ,उमीद जमती रही दिल की परतों में
    सर्द रातों को भी कपकपाते हुए देखा है हमने!

    Wah wah…beautiful!


एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: