दीपउत्सव

आप सभी को दीपउत्सव की हार्दिक बधाई |
ये दीपावली सभी के घरों में और दिलों में रौशनी भर दे |diwali-12

17 टिप्पणियाँ

  1. अक्टूबर 14, 2009 at 7:04 अपराह्न

    आप को ओर आप के परिवार को दिपावली की शुभकामानयॆं

  2. अक्टूबर 15, 2009 at 6:02 पूर्वाह्न

    आप को भी दीपउत्सव की हार्दिक बधाई |

  3. rashmi prabha said,

    अक्टूबर 15, 2009 at 8:11 पूर्वाह्न

    कामनाओं की वर्तिका जलानी है …..
    कुछ दीये खरीदने हैं,
    कामनाओं की वर्तिका जलानी है …..
    स्नेहिल पदचिन्ह बनाने हैं
    लक्ष्मी और गणेश का आह्वान करना है
    उलूक ध्वनि से कण-कण को मुखरित करना है
    दुआओं की आतिशबाजी ,
    मीठे वचन की मिठास से
    अतिथियों का स्वागत करना है
    और कहना है
    जीवन में उजाले – ही-उजाले हों

  4. अक्टूबर 15, 2009 at 8:55 पूर्वाह्न

    आपको एवम आपके परिवार को दीपावली पर्व की हार्दिक शुभकामनाएं.

    रामराम.

  5. Mahfooz said,

    अक्टूबर 15, 2009 at 12:21 अपराह्न

    aapko deepawali ki haardik shubhkaamnayen……

  6. अक्टूबर 15, 2009 at 2:10 अपराह्न

    आपको भी दीपावली की समस्त शुभकामनायें मैम…ईश्वर करे आपकी लेखनी यूं ही जगमगाती रहे सर्वदा

  7. अक्टूबर 16, 2009 at 6:01 पूर्वाह्न

    सुंदर व्यंजनाएं।
    दीपपर्व की अशेष शुभकामनाएँ।
    आप ब्लॉग जगत में महादेवी सा यश पाएं।

    ————————-
    आइए हम पर्यावरण और ब्लॉगिंग को भी सुरक्षित बनाएं।

  8. om arya said,

    अक्टूबर 16, 2009 at 6:02 पूर्वाह्न

    बढ़ा दो अपनी लौ
    कि पकड़ लूँ उसे मैं अपनी लौ से,

    इससे पहले कि फकफका कर
    बुझ जाए ये रिश्ता
    आओ मिल के फ़िर से मना लें दिवाली !
    दीपावली की हार्दिक शुभकामना के साथ
    ओम आर्य

  9. Alpana said,

    अक्टूबर 16, 2009 at 6:11 पूर्वाह्न

    Priy Mahak,
    आप सहित पूरे परिवार को दीवाली की हार्दिक शुभकामनाएँ.

  10. preeti tailor said,

    अक्टूबर 16, 2009 at 8:57 पूर्वाह्न

    aapko aur aapke pure parivaar ko mere pure parivaar ki taraf se dipavali aur nav varshki hardik shubhkamnaayen …

  11. अक्टूबर 16, 2009 at 3:10 अपराह्न

    सुख, समृद्धि और शान्ति का आगमन हो
    जीवन प्रकाश से आलोकित हो !

    ★☆★☆★☆★☆★☆★☆★☆★
    दीपावली की हार्दिक शुभकामनाए
    ★☆★☆★☆★☆★☆★☆★☆★

    *************************************
    प्रत्येक बुधवार सुबह 9.00 बजे बनिए
    चैम्पियन C.M. Quiz में |
    प्रत्येक शुक्रवार सुबह 9.00 बजे पढिये
    साहित्यिक उत्कृष्ट रचनाएं
    *************************************
    क्रियेटिव मंच

  12. अक्टूबर 16, 2009 at 4:51 अपराह्न

    रौशनियों के इस मायाजाल में
    अनजान ड़रों के
    खौ़फ़नाक इस जंजाल में

    यह कौन अंधेरा छान रहा है

    नीरवता के इस महाकाल में
    कौन सुरों को तान रहा है
    …..
    ……..
    आओ अंधेरा छाने
    आओ सुरों को तानें

    आओ जुगनू बीनें
    आओ कुछ तो जीलें

    दो कश आंच के ले लें….

    ०००००
    रवि कुमार

  13. अक्टूबर 16, 2009 at 9:59 अपराह्न

    ही दिवाळी खूप खूप सुखाची अन् समृध्दी ची जावो ।

  14. urmi said,

    अक्टूबर 18, 2009 at 3:45 पूर्वाह्न

    आपको और आपके परिवार को दिवाली की हार्दिक शुभकामनायें!

  15. Devesh said,

    अक्टूबर 18, 2009 at 9:37 अपराह्न

    Mehek, aap ko bhi Dipawali ki Hardik shubh kamnayen…

  16. अक्टूबर 31, 2009 at 12:17 अपराह्न

    Sorry Mehek, I am late this time, but still i say aapka ghar hamesha diya bati se jagmagate rahe.

  17. दिसम्बर 20, 2009 at 12:31 पूर्वाह्न

    Jab tak chand-taare timtimaate rahein
    Aap yun hi hmeshaa muskuraate rahein.


एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: