बोगन बेलिया

चाँदनी के फूलों से सजी मोगरे की डाली
झरते फूल हलके ही अन्जनी में समेटे

पूछ लिया पौधे ने ,कही तुम्हे चोट तो नही लगी?

===============================

गुलाबी ,लाल रंगों की खिलखिलाहट
खुश्बू बस हम में खुशी ही है

ये बहार भी तेरे लिए,बोगन बेलिया चहकी

14 टिप्पणियाँ

  1. Mahfooz said,

    दिसम्बर 6, 2009 at 5:32 पूर्वाह्न

    पूछ लिया पौधे ने ,कही तुम्हे चोट तो नही लगी?

    बहुत सुंदर पंक्तियाँ…..

    कविता बहुत अच्छी लगी…….

  2. दिसम्बर 6, 2009 at 5:35 पूर्वाह्न

    awesum !!!

  3. rashmi prabha said,

    दिसम्बर 6, 2009 at 8:32 पूर्वाह्न

    paudhe ka khyaal…….komal sa pyaar laga

  4. Alpana said,

    दिसम्बर 6, 2009 at 11:18 पूर्वाह्न

    dono triveni achchhee hain.

  5. preeti tailor said,

    दिसम्बर 6, 2009 at 1:03 अपराह्न

    पूछ लिया पौधे ने ,कही तुम्हे चोट तो नही लगी?

    bahut khubsurat andaaz

  6. दिसम्बर 6, 2009 at 2:27 अपराह्न

    कविता लय में हो तो सुरमय़ी हो जाती है और सुर रूह को भी झंकार देते है जबकि आजकी कवितायें सिर्फ़ माथापच्ची कराती है। कुछ कदम बढ़ाए उस ओर भी……….

  7. kshama said,

    दिसम्बर 6, 2009 at 2:36 अपराह्न

    ‘Kahin chot to nahee lagi?” kitna pyara sawal! Kaash bogan me sunghand hoti…itnee khoosoorat bel, aasanise badhne wali…isiliye bhagwan ne use sungandh se wanchit rakha!

  8. दिसम्बर 6, 2009 at 4:22 अपराह्न

    कम शब्द में अति सुंदर कविता..धन्यवाद

  9. दिसम्बर 6, 2009 at 4:48 अपराह्न

    त्रिवेणीनुमा..सुन्दरता से पंच किया है ..इसे कहते हैं कोमल पंच!!!🙂

  10. urmi said,

    दिसम्बर 7, 2009 at 11:06 अपराह्न

    अत्यन्त सुंदर पंक्तियाँ! बहुत अच्छी लगी!

  11. chandan said,

    दिसम्बर 8, 2009 at 7:24 अपराह्न

    बहुत हीं सुन्दर त्रिवेणियां

  12. abyaz said,

    दिसम्बर 9, 2009 at 3:53 पूर्वाह्न

    महक.. बहुत ख़ूब.. पौधे के इमोशंस तो बहुत ख़ूब..

  13. दिसम्बर 9, 2009 at 9:40 पूर्वाह्न

    Bahut Sunder Mehek jee. Behad komal ahsas.

  14. psingh said,

    दिसम्बर 14, 2009 at 9:55 पूर्वाह्न

    बहुत ही अच्छी रचना
    बहुत-२ आभार


एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: