बारिश तेरा आना

 

आधी रात

सितारों की बारात

मेघ बने घोड़े

बदरा आए दौड़े दौड़े

बिजली की थिरकन

हवाओ में कंपन

कही अपने आप बजते

बासुरी के स्वर

कही यूही गुनगुनाते

हौले से अधर

अनगिनत अरमान बाहों में

कितने ही मोती खयालो में

छम छम सी बूंदाबांदी

बिखरे दिल की ख्वाहिश

भीगे हुए से हज़ारों

ख्वाबों की आजमाइश

पहले से तय होता

ये हमने माना

पर् हर बार नया सा लगता

बारिश तेरा आना…..

12 टिप्पणियाँ

  1. s bhaskar said,

    जून 4, 2010 at 1:37 पूर्वाह्न

    हर शब्‍द में गहराई, बहुत ही बेहतरीन प्रस्‍तुति ।

  2. sanjay bhaskar said,

    जून 4, 2010 at 1:37 पूर्वाह्न

    सार्थक और बेहद खूबसूरत,प्रभावी,उम्दा रचना है..शुभकामनाएं।

  3. sanjay bhaskar said,

    जून 4, 2010 at 1:38 पूर्वाह्न

    वाह ! कितनी सुन्दर पंक्तियाँ हैं … मन मोह लिया इस चित्र ने तो !

  4. sanjay bhaskar said,

    जून 4, 2010 at 1:39 पूर्वाह्न

    हर रंग को आपने बहुत ही सुन्‍दर शब्‍दों में पिरोया है, बेहतरीन प्रस्‍तुति ।

  5. kshama said,

    जून 4, 2010 at 4:55 पूर्वाह्न

    पहले से तय होता

    ये हमने माना

    पर् हर बार नया सा लगता

    बारिश तेरा आना…..

    Jabtak har anubhav naya-sa lagta hai,tab tak insaan zinda dil rah pata hai..

  6. drpundir said,

    जून 6, 2010 at 11:37 पूर्वाह्न

    bahut si baten hoti hai, jo har baar hoke bhi nayi lagati ahi

    aur barish ki baat hi alag hi

    bas khhob sari ho is bar rimjhim rimjhim

  7. alpana said,

    जून 7, 2010 at 6:10 पूर्वाह्न

    barish aa gayee aur saath mein mahak bhi …
    badhayee..

    bahut pyari si kavita likhi hai..

  8. जून 7, 2010 at 9:07 पूर्वाह्न

    बारिश की रिमझिम को शब्दों में उतार दिया है आपने .. सजीव चित्रण …

  9. Rewa Smriti said,

    अगस्त 10, 2010 at 12:50 अपराह्न

    बिजली की थिरकन

    हवाओ में कंपन

    कही अपने आप बजते

    बासुरी के स्वर

    कही यूही गुनगुनाते

    हौले से अधर

    Wah…Main bhi kho gayi iske dhun mein.

  10. s. gulyani said,

    अगस्त 21, 2010 at 6:16 पूर्वाह्न

    baarish per bahut hi pyari kavita hai. badhai.

  11. s. gulyani said,

    अगस्त 21, 2010 at 6:17 पूर्वाह्न

    baarish per bahut pyari kavita hai. badhai.

  12. riya said,

    नवम्बर 20, 2011 at 5:46 अपराह्न

    ishq karte the hum , logon ne nafrat karna sikha diya
    Jis chehre ko dekhkar hansate the hum , usane rona sikha diya
    Hum to marna chahte the , magar maut ke intzar ne jina sikha diya


एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: