जब से बड़ी हुई हूँ

धरती पर कदम रख चलती हूँ
उसी की गोद से निकला
अन्न जल ग्रहण करती हूँ
उसकी वायु से सांस लेती हूँ
ये जीवन उसी की देन
फिर भी क्यूँ हर रात
जब निलय नभ को देखती हूँ
मन उसी और दौड़ता है
वो चवन्नी सा चाँद
बिंदिया से सितारे
वही सारा जहान लगते है
दिल आवाज़ देता है,
फैला दो अपनी बाहें और समेट लो
ये चमकीला आकाश बाहों में
वो गैर पास आता नही
फिर धरा पर ही सो जाती हूँ
सोचते हुए , 
कितनी मतलबी हो गयी हूँ, 
जब से बड़ी हुई हूँ |

12 टिप्पणियाँ

  1. kshama said,

    अगस्त 18, 2010 at 11:34 पूर्वाह्न

    कितनी मतलबी हो गयी हूँ,
    जब से बड़ी हुई हूँ |
    Sach! Duniyadaaree ke chakkar me bachhon kee maasoomiyat na jane kahan kho jati hai?

  2. rashmi prabha said,

    अगस्त 18, 2010 at 1:17 अपराह्न

    bade hote duniya simat jaati hai ‘swa’tak simat jati hai…. bahut badhiyaa

  3. अगस्त 18, 2010 at 3:43 अपराह्न

    बहुत सटीक बात कही, शुभकामनाएं.

    रामराम

  4. Kajal Kumar said,

    अगस्त 19, 2010 at 5:09 अपराह्न

    आकाश समेटने जितना बढ़ा होना…बहुत सुंदर विचार लगा.

  5. ashadhaundiyal92 said,

    अगस्त 20, 2010 at 8:03 पूर्वाह्न

    bahut hi khubsurati se aapne apne bhavo ko shabdo me dhala hai…

  6. Rewa Smriti said,

    अगस्त 21, 2010 at 6:18 अपराह्न

    कितनी मतलबी हो गयी हूँ,
    जब से बड़ी हुई हूँ |

    Nice creation!
    Hmmm…is it true? I don’t think so….. But, yes, it’s correct that Insan jab apna bachpan chodta hai, aur jaise jaise bada hota jata hai wo utna hi jyada matlabi banta jata hai.

  7. digamber said,

    अगस्त 22, 2010 at 11:46 पूर्वाह्न

    बहुत खूब … ख्यालात की उड़ान कहाँ कहाँ ले जाती है …. फिर लौट कर अपनी ज़मीन पर वापस ले आती है … अच्छी रचना …

  8. अगस्त 22, 2010 at 11:47 अपराह्न

    मेहेक बहुत सुंदर कविता । आसमान को बाहों मे लेने के खयाल से जमीन पर उतरने तक कितने खूबसूरत खयाल हैं .

  9. kshama said,

    अगस्त 23, 2010 at 1:44 अपराह्न

    Mehek..tumhari tippanee padhee( Bikhare Sitere” pe).Ye kahani nahi jeevanai hai..jiska harek shabd sahi hai.

  10. Rohit Jain said,

    अगस्त 31, 2010 at 2:40 अपराह्न

    बेहद उम्दा रचना…

  11. सितम्बर 24, 2010 at 11:33 पूर्वाह्न

    mein bhi kisi din bada ho jaonga

  12. अमन said,

    दिसम्बर 20, 2010 at 7:27 अपराह्न

    HOW R U


एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: