हम दोनो की

हम दोनो की
अच्छाई से 
गुलशन महका,
मगर कुछ खामियाँ 
हम दोनो की 
तुम्हारी खंमियों को
तुमने खुशबू का नाम दिया
और मेरी खामियाँ
काटों का ताज 
कैसे बन गयी ?…………..

20 टिप्पणियाँ

  1. kshama said,

    फ़रवरी 7, 2012 at 7:14 पूर्वाह्न

    Kisee kee khamiyon ko katon ke taaj ka naam dena….ye kaisa insaaf?

  2. Digamber said,

    फ़रवरी 7, 2012 at 3:27 अपराह्न

    Vajib prashn hai apka … Par kamjor ko sabhi dabane ki koshish karte hain

  3. vidya said,

    फ़रवरी 26, 2012 at 4:46 अपराह्न

    दस्तूर है ज़माने का…
    सुन्दर भाव,,

  4. rasprabha said,

    फ़रवरी 26, 2012 at 5:10 अपराह्न

    इसी फर्क ने तो सितम किया

  5. फ़रवरी 26, 2012 at 6:16 अपराह्न

    यही बुनियादी फर्क है जो मन को सालता है

  6. arun sathi said,

    फ़रवरी 27, 2012 at 2:01 पूर्वाह्न

    लेखन का जादू..प्रेम यही मरता हे
    यर्थाथ का चित्रण। सादर।

  7. फ़रवरी 27, 2012 at 5:54 पूर्वाह्न

    बहुत ही बढ़िया

    सादर

  8. rajesh chaudhary said,

    फ़रवरी 27, 2012 at 8:07 अपराह्न

    mehek ji, jo jitni gehraie aur shiddat se kisi ko chahta hai na. . usey us sey utna hi kanteela taaj milta hai. . shayad yehi sachchey pyar ka sila hota ho ? ..😦

  9. फ़रवरी 29, 2012 at 4:06 पूर्वाह्न

    नजरिये का ही तो फर्क है !

  10. Rewa Smriti said,

    अप्रैल 20, 2012 at 6:51 अपराह्न

    Nice poem dear…

    I am happy to see your poem…welcome back!

  11. मई 1, 2012 at 3:17 अपराह्न

    अपनी खामियां कब दिखाई देती हैं दुनिया में किसी को ? सुंदर भावपूर्ण कविता ।

  12. जुलाई 23, 2012 at 10:50 अपराह्न

    Mehek kahan ho aap ? yahan nahee aur mere blog par bhee aapki kami Khalti hai.

  13. जुलाई 26, 2012 at 10:41 अपराह्न

    बहुत ही सुंदर

  14. अगस्त 27, 2012 at 4:43 पूर्वाह्न

    संवेदनशील प्रस्तुति

  15. अगस्त 27, 2012 at 6:11 पूर्वाह्न

    hamesha aisa kyu hota hai…….sach may ye prashn tho hai hi…par jawab nahi milta

  16. सितम्बर 16, 2012 at 2:34 अपराह्न

    मेहेक बहुत दिनों से कुछ नया नही लिखा ।

  17. reena jaiswal said,

    मार्च 5, 2013 at 8:19 पूर्वाह्न

    DUNIYA KA DASTUR NIRALA HAI


एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: