अब रोज रात आसमाँ से

तेरा नाम लेकर
मन में पुकारती  हूँ
आज भी जिस 
गली से गुजरती हूँ
बावरी सोचती है
तुम सुन लोगे….

===========
सुना बहुत है
उससे माँगी हर मुराद
पूरी होती है
अब रोज रात आसमाँ से
एक सितारा टूटने की
ख्वाहिशे पनपती है

============
सारा जहाँ घुम लिए
फिर भी 
करार  ना आया
दिल को सुकून मेरे 
मा के आँचल  बिना
कही नही

Advertisements