हर सदी इश्क़ की नयी कहानी होगी

हर सदी इश्क़ की  नयी कहानी होगी
राज़ खुले जो दिल के पशेमानि होगी |

मत छेड़ो दुल्हनदिल को इस कदर
हथेली खिली महेंदी  शरमपानी होगी |

क़ानून की ज़रा मजबूरी तो समझिए
सज़ा मिली हर हस्ती जानीमानी होगी |

चुनाव में इस बार कोई दोगला खड़ा
वोट संभल कर दीजिए मेहेरबानी होगी |

पूछवालों की वफ़ा को जोड़िए सत्ता से
ये उनके प्रति हमारी बद ज़ुबानी होगी |

हक़ीक़त में जमाना पहुँचा चाँद पर
कल्पना में जिए महक ,कब सयानी होगी |