दो हाइकू

Image and video hosting by TinyPic

सुबह की पायल खनकते ही,निशा की गोद से उठकर
हम अक्सर उनकी गोद में समा जाते है | बिन कहे ही
वो कुछ ऐसी खुशबू ले आती है,की बस,दिल खुश हो जाता है |
उस खुशबू के बिना तो पैरों के पहिए चलते ही नही |

 . चाय की चुस्की
    तेरी हाथों से बनी
     दिन सुहाना

उपरवाले ने भी ये ममता की मूरत बड़ी फुर्सत में बनाई होगी |
इतनी सहनशीलता,प्रेम,निस्वार्थ,त्यागी, और  जाने हमारे 
एहसास उन तक मिलो दूर से भी कैसे पहुँच जाते है | दिल जान 
लेता है , लफ़्ज़ों की ज़रूरत ही महसूस नही हुई कभी |

   मेरे मन के
    राज़ अनकहे से
    कैसे समझी

सच ही तो कहते है जहा उपरवाला नही जा सका,उसने मा भेज दी |

Advertisements

हाइकू-गूँज

हाइकू-गूँज

1.परबतो से टकराई
गूँज उठी चारो दिशा में
आवाज़ तुम्हारी

2.अख़बार में
हर दिन गूंजते है
दुनिया के फसाने

3.अमिर की उठति
ग़रीब की दबती रहती
आवाज़ की गूँज

4.कही भी रहे
मा के कानो में गूँजे
नन्ही किलकारी

5.रस्मे पूरी होती
शहनाई की गूँज
शादी सपन्न

6.अपनी मोहोब्बत
दिल में गूँजे
तेरा तराना

7.वादियों में
गीत गूंजते
इश्क़ के

8.खाली पेट
चीखों की गूँज
भूख तड़पाती

9.झूठ बोलने पर
गूँजता अंतरमन
धिक्कारता खुदको.

10.कम सुनी है
आज के ज़माने में
सच्चाई की गूँज

हाइकू- नारी

हाइकू- नारी

1. ममता से भरी
    अन्नपूर्णा कहलाती है
    जन्मदात्रि

2. जिसके बिना
    सारा जग सुना सुना
    मा है वो

3. कलाई पर राखी
    भाई की दुलारी
    बहन वो

4. लक्ष्मी सी आई
   खुशियों का धन लाई
   बेटी वो

5. समर्पित सदैव
    विश्वास पर खरी
   अर्धांगिनी

6. पूजनीय सबकी
    आदरभाव जिसके लिए
    देवी वो

7. बिदाई की रस्म
    जग की रीत है
    बेटी रोए

8. अपनो के गम
    आँचल में छुपाती
    धरती जैसे

9. चाँद पर आज
    रखा कदम नारी ने
    बढता हौसला

10. चाहत उसकी
      दिवानगी की हद तक
      प्यार की मूरत.

हाइकू – सवेरा

हाइकू – सवेरा

1. पंछीयो की किलबिल
    सूरज निकलते ही
    घरौंदा छोड़े

2. चाँद छुप गया
    चँदनी खो गयी
    अधूरे स्वप्न

3. दव की बूँदे
    फूल खिले है
    महेकती ताज़गी

4. घना सा कोहरा
   पत्तियों का जाल
   चमकी किरने

5. अरुण रथ दौड़ा
    एक नया दिन
    रौशन जहाँ

6. अख़बार के पन्ने
    चाय का प्याला
    तरोताज़ा दिन

7. प्रभु का नाम स्मरण
    शंख का नीनाद
    आशीर्वाद पाए

8. रंगो की चुनरी
    अंबर भी शरमाये
    भोर हुई

9. भीगे है गेसू
   गालो पे लट है
   मनमोहक अदा

10. काम पे जाना
    अपनो से दूर
     ज़िंदगी है

हाइकू- प्रकृति

हाइकू- प्रकृति
1.बहती हवाए                                                     
  लहराते हरेभरे खेत
   चंचल मन

2.कोयल की कुक
  दिल में मिठास
  सुरीला गीत

3.नदिया की धारा
  सागर मिलन की उमंग
  लंबे रास्ते

4.हरियाली छाई
  धरती सजी है
  नया अंकुर

5.तितली फुलो पर
   रंगबिरंगी समा है
   मधु चुनती

6.भंवर की गूंजन
   खूबसूरत फूल ढूँढना
   छुपना है

7.सूरज की लाली
   गालो पर मेरी
   शर्माउ मैं

8.नीला आसमान
  चारो दिशाओ में अस्तित्व
  विशाल हृदय

9.परबतो की बस्ती
  उँचाई को छुना चाहे सब
   पत्थेर दिल

10.प्रकृति दुल्हन बनी
     अंतरमन प्रसन्न हुआ
     मुस्कान खिली
 
 

हाइकू – समय

हिन्दी में हाइकू लिखने का हमारा ये पहला प्रयास है|

हाइकू – समय

1. रोकना चाहती हूँ                         6. दिल के जज़्बात
समय मुठ्ठी में                                    समय रहते कह दो
    भागता जाए                                      नयना बरसे

2. रेत का  टीला                               7. काम जो करता
    समय का रेला                                 समय को महत्व देता
    फिसलता जाए                                 लक्ष्मी विराजे

3. घड़ी की टिक टिक                       8. इतिहास दोहराता
    समय की कमतरता                         गुजरा समय फिर लाता
    धड़काने तेज़                                     घूमता कालचक्र

4. किसिका नही होता                       9. ज़िंदगी के पहिए
    समय अकेला चलता                         समय की रफ़्तार
    हर क्षण अनमोल                              निशाना मंज़िल

5. किसिको नही मिलता                   10. तूफा को मोड़ दे
    समय से पहले                                   समय में बल है
    खेल नसीबका                                     मेहनत ज़रूरी.