nazron ke teer

नज़रों के तीर जब निकले कमान से
कितने दिल घायल होने को तैय्यार शान से
पर अपने चाँद का दीदार सबको करना या नही
ये हम तय करेंगे फिर कभी इत्मीनान से

Advertisements