tum aaye

tum aaye  hamari gali

aur aahat  bhi na huyi

ishq ke maikhane mein hum

tere yaadon ke jaam pi rahe thay………

 

Advertisements

dil mein base ho

dil mein base ho mere har lamha
khayal accha khud ko behlane ke liye
tere alfaz-e- ishq piroye bani nazm
wo bahana hai tujhe gungunane ke liye………

mulaqat tumse pal bhar ki

zindagi kum hai khwab sajane ke liye

dhadkan tez  karti teri wo sajish-e-nazar

bas wajah kafi hai muskurane ke liye 🙂

 

tum ya main

mere mann ka aaina

par tasveer tumhari

har subhah ab main

khud ka vajood khojti hun…….

गुलशन

मेरे imagesमन की
हर परतों में बसी
भावनाओं का
गुलशन

मेरे आँखों की
रौशनी में नज़र आती
तेरी तस्वीरों का
गुलशन

मेरे दिल की
धड़कनो में गूंजता
तेरे ख्यालों का
गुलशन

मेरी साँसों ka
चलते रेहने का सबब
तूने जो मुझ पे लुटाया
उस इश्क़ का
गुलशन

wo ada tumhari

wo ada thi tumhari

ankhon se barasta ishq

wo ada thi hamari

dhadkano mein usse kaid karna

wo nasha-e-samandar behta

baahon mein kaid khamosh muskan

kuch aise hi lamhon ke afsane

aaina hai dil ka

khud ko niharte hai unmein har din

zindagi ki leherein bas aise hi uchalti hai…..

aaj karib karib saal bhar baad apne hi

aaj karib karib saal bhar baad apne hi blog par kuch likh rahi hun,na jane kyun itane mahino mahino se door rahi hun isse,dil hi nahi karta tha ya na jane vajah hi nahi malum, is blog ke kaaran magar khub saare dost banaye aur kuch dil tak pahunche,sabhi ko hamara salaam.

हम दोनो की

हम दोनो की
अच्छाई से 
गुलशन महका,
मगर कुछ खामियाँ 
हम दोनो की 
तुम्हारी खंमियों को
तुमने खुशबू का नाम दिया
और मेरी खामियाँ
काटों का ताज 
कैसे बन गयी ?…………..

समंदर किनारे

समंदर किनारे बैठकर
सूरज की किरणो से
कुछ ख्वाब बुने थे परदेसी
आज शाम रंगीन आसमां के नीचे
जब रेत हाथों में ली
.लहेरें उन्हे आकर बहा ले गयी
अचरज में है मन तब से
क्या तुम तक 
पहुँच पाएंगे वो……..

सितारों की..

सितारों की रौशनी में
अक्सर
ढूंढते है तेरा चहेरा
शायद चाँद बन कभी तुम
निहारते होंगे हमे
तस्सली सी हो जाती है
दिल को
आज भी वो प्यार
अनजाना नही……………………….

यादों का छल्ला

चांदनी सुना रही कुछ अनकहे से राज़
जो तेरे मेरे बीच में सजते थे बन साज़

कैसे कहूं पवन से ना छेड़े वही गुंजन
ना समझू कुछ जलता दिल में या उठती ठंडी सिरहन

चाँद भी नही खेलता बादलों संग आँख मिचोली
कहता नटखट कोई नही मैं तेरा हमजोली

इन बातों से खनकता तेरी यादों का छल्ला रुनझुन
फिर उठती अनगिनत लहरें ,विचलित होता ये मन……

« Older entries