vada

चाहे अगर तो रूठ जा , तू सौ बार सही
मनाने तेरे अपने आएँगे , कोई शिकवा नही

चाहे अगर तो भूल जा , अपनी दी हुई कसम कोई
अपने फिर भी साथ रहेंगे , कोई गम नही

चाहे अगर तो रिश्तों से मोड़ ले तेरा दामन
तेरी सांसो में रहेंगे,बनके प्यार के गीत वही

चाहे अगर तो,अपनो से तू कभी ना बोलना
पर किसी से किया सच्चा वादा कभी नही तोड़ना

विश्वास के मोती जब , एक बार बिखर जाएँगे
तू लाख कोशिश कर ले,फिर कभी  नही जुड़ पाएँगे