गुलदस्ता – मोहोब्बत का(valentine)

 

गुलदस्ता – मोहोब्बत का

[1]
फ़िज़ा के रंग कुछ सवरने लगे है
हवाओं के रुख़ कुछ बदलने लगे है
सुस्त सी सर्दियों पर बिछी सूरज की रश्मि
दिल में तम्मनाओ के काफिले निकलने लगे है
मौसम में छाई है बसंती बहार
मंन में सज रहा मोहोब्बत का खुमार
पपिहरा नये गीतों से वादियाँ चहेकाना तुम 
सावरिया आए मिलन जब,ये राज़ किसे ना बताना तुम |

[2]

मोहोब्बत ये तुम्हारी हमारी
सदियों सी हो चाहे पुरानी
इतने अरसो बाद भी सजना
हम हर लम्हा बुनते नयी कहानी
बरकरार रखी है वही खुमारी
बावरी मैं हूँ तेरी दीवानी
तुम संग जो चली हूँ राहइश्क़
खुद को समझू सबसे सयानी. |

[3]

मोहोब्बत की घड़ियाँ ज़िंदगी में आए
सारी कायनात बदल ने का दस्तूर है |

इंसान को मसीहा का तसवुर दिया
इतना गहरा मोहोब्बत का सरूर है |

आस पास का सब कुछ बेमानी लगे अब
बेवक़्त उनका ख़याल दिल में हुज़ूर है |

इबादात करते है सौ बार दिन में
पाकजज़्बे पर हमे बहुत गरूर है |

नफ़रतॉ के खार दिल से रुखसत हुए सारे
इश्क़ –गुल का हम पर ये असर ज़रूर है |

[4]

खामोशियों से की कई बार कोशिश
बयान करे तुम से अपने मोहोब्बत का अफ़साना
दिलबर हुए हो जब से दिल के सरताज
महफ़िलचमन  हमे लगे और सुहाना
मिल जाते हों राहों में कभी अकेले
दो बातें कर लेते है तुझ से
की है मुश्किलें ज़रासी आसान
तेरा साथ पाने का मिला यही  बहाना. |

[5]

मोहोब्बत के सफ़र में ,कुछ पल रुक जाए
प्यार के महकते गुलाब आज फिर ले आए
चाँदनी ने की है रौशन सारी फ़िज़ाए
आफताब-ए-गवाह को भी संग बुलाए
तुम मेरी साँसों को महसूस करो दुबारा
तेरी धड़कने सुनू मैं,यूही गुज़रे वक़्त सारा
कुछ तुम कहो,कुछ हम कहे,कभी खामोश नज़ारा
पल पल मिलकर सजाए,बहेती जीवन धारा |

HAPPY VALENTINE DAY