इतनी रुसवा ना हो ए ज़िंदगी

1. इतनी भी रुसवा ना हो  ज़िंदगी
    के जीने का सबब ही ना रहे
    एक दिन तुम हमे ढूँढती आओगी
    और जहाँ में  हम ही ना रहे.

2. आज कुछ से बरसी है बदरा
    लगता है अब बाढ़ आकर ही जाएगी
    आज कुछ से बह रहे है नीर
    लगता है मुझे डूबा कर ही जाएगी.
 
3. कब से कोशिश कर रही हूँ
      भी पल पल मर् रही हूँ
    क्या हो गया है मुझको बताए कोई
    के बर्फ़ में बैठी मैं जल रही हूँ.

4. शायद सबके जीवन में एसा होता होगा
    सब कुछ होकर भी दिल रोता होगा
    जानती हूँ ,मैं ही एक बदनसीब नही हूँ
    मुझसे भी कोई ज़्यादा खोता होगा
    पर हम तो अश्क बहा रहे बीन कारण
    अभी तो हम ने कुछ पाया ही नही है .