ख़यालों में

 

ख़यालों में

 

 

 

जब तुम पास नही होते

 

 

या पास होकर भी दूर होते हो

 

 

तेरा ही ख़याल करती हूँ मैं

 

 

पलकों के पर्दे पर तेरा चित्र बनाती

 

 

उन में प्यार के रंग भर देती

 

 

बेहोशी का आलम , मैं तुझे निहारती

 

 

कभी तुम भी आकर देखो

 

 

हमारे ख़यालों में ,

 

 

तेरे लिए क्या सोचती हूँ मैं

 

 

कभी तुम भी मुड़कर देखों ,

 

 

तेरे ख़यालों में डूबी हुई

 

 

हक़ीक़त में कैसी लगती हूँ मैं |

 

 

 

Advertisements

इत्तेफ़ाक

इत्तेफ़ाक

उन्ही लम्हों का तोहफा दिया जिन्हे हम दफ़ना चुके थे
    ख़ुदारा  कसम से,तेरे ये इत्तेफ़ाक भी बड़े अजीब होते है |

. बहका है मौसम लेकर अंगड़ाई,उसपर चुभती ये तन्हाई
    काश हक़ीक़त में तेरे आने का खूबसूरत इत्तेफ़ाक हो जाए |