साथ में हम भी


चिट्ठाजगत अधिकृत कड़ी

1.जाम पर जाम छलकते रहे
आँखों में सपने पनपते रहे
मोहोब्बत-ए-महफ़िल सजी
रात भर शमा जलती रही
तेरा आना इंतज़ार बन गया
साथ में जले हम भी |

2.मध्यम सी चाँदनी बिखरी
चाँद आया,ये रात निखरी
आगोश में समा गयी चाँदनी
प्यार के अरमान हुए रौशन
तूने जो छू लिया हमे अब
साथ में बहके हम भी |
Hindi Blogs. Com - हिन्दी चिट्ठों की जीवनधारा

Submit

top post

Advertisements

काग़ज़ पर उतर कर आ जाओ तुम

तुम्हे अपनी ज़िंदगी बनाना चाहते है
मेरी सांसो में आकर मिल जाओ तुम |

तुम्ही फूल मेरे जीवन की बगिया का
मेरे दिल में आकर खिल जाओ तुम |

तुम्हारी इनायत है ,के अभी मैं जिंदा हूँ
मेरी धड़कन में आकर समा जाओ तुम |

तुम्हारा नाम सदा गुनगुनाती रहती हूँ
मेरी होठों का संगीत बन जाओ तुम |

तुम्हे इस जिगर में जान बनाया है
मेरी काया में आकर ठहर जाओ तुम |

तुम्हारी इबादत आजकल मैं करती हूँ
मेरी दुआ आकर कबुल कर जाओ तुम |

तुमसे ही मेरे जीवन के रेशम तार जुड़े
मुझसे आकर गठबंधन कर जाओ तुम |

तुम्हे मेरी शब्दो की भावना में लिख दू
अब काग़ज़ पर उतर कर आ जाओ तुम |

karke mohobaat humse

दूवायें दे कितनी ,आपने वो काम किया है
अपने साथ साथ हमारा भी नाम किया है

करके आपने मोहोब्बत हमसे
आसमान का चाँद बना दिया है

पहले तो हमे कोई पहचानता भी न था
जिस गली से भी गुज़रे अब , उसका मेहमान बना दिया है

ताजमहल पर लगाई है तस्वीर
एक और नया अरमान दिया है

कैसे शुकराना अदा करे हम
आपने हमे इतना जो मान दिया है