कुछ शेर-गणतन्त्र दिवस के अवसर पर

93588aphex9t2mt1.gif 

//1//
कुछ कर गुजरने की गर तमन्ना उठती हो दिल में
भारत मा का नाम सजाओ दुनिया की महफिल में |

//2//
हर तूफान को मोड़ दे जो हिन्दोस्तान से टकराए
चाहे तेरा सीना हो छलनी तिरंगा उंचा ही लहराए |

//3//
बंद करो ये तुम आपस में खेलना अब खून की होली
उस मा को याद करो जिसने खून से चुन्नर भिगोली |

//4//
किसकी राह देख रहा , तुम खुद सिपाही बन जाना
सरहद पर ना सही , सीखो आंधियारो से लढ पाना |

//5//
इतना ही कहेना काफी नही भारत हमारा मान है
अपना फ़र्ज़ निभाओ देश कहे हम उसकी शान है |

//6//
विकसित होता राष्ट्र हमारा , रंग लाती हर कुर्बानी है
फक्र से अपना परिचय देते,हम सारे हिन्दोस्तानी है |

गणतन्त्र दिवस की आप सबको बधाई.

Advertisements

ये हिन्दोस्तान सारा ,ये गुलिस्ताँ हमारा

ये गुलिस्ताँ हमारा

रंगबिरंगी फूलों का चमन सजा हो जैसे
हर धर्म को अपने मन में बसाया है वैसे
विविधता की झाकियों का दर्शन कराता 
अनेकता में एकता का संदेसा पहुचाता
भारतवासी को लगता जान से प्यारा
ये हिन्दोस्तान सारा ,ये गुलिस्ताँ हमारा |

सोने की चिड़िया करती अब भी यहाँ बसेरा
अथांग सागर से बनी ताकत,तीनो किनारा
हिमालय की उँची चोटिया जिसका सहारा
नादिया उसकी गोदी में पलती,बसती,बहती
चमकीला कोहिनूर वो,दुनिया में सबसे न्यारा
ये हिन्दोस्तान सारा , ये गुलिस्ताँ हमारा |

आज़ादी के बाद क्यों फैला ये अंधियारा
किस बात की लढाई, किसने किसको मारा
भूल जाए आपस के मतभेद आज के दिंन से
बनाओ फिर सबको अपना एक बार दिल से 
रौशन करा दो चिरागे,खिल जाए उजियारा
ये हिन्दोस्तान सारा , ये गुलिस्ताँ हमारा |

एसे धीरज खोकर बिगड़े काम ना बन पाए
हिम्मत धाडस मन में बांध ले,समझाए
मिलकर कोशिश करो फिर हरियाली छाए
सत्ता की नही जरूरत,वो बिसरा अमन लाए
उठ जाओ,बढ़ाओ कदम,अब देस ने पुकारा
ये हिन्दोस्तान सारा , ये गुलिस्ताँ हमारा |

अमर शहिद-एक सलामी

अमर शहिद-एक सलामी

बरस पर बरस बीत गये
गाँव की मिट्टी को छुए
जब से सैनिक का ध्ररा भेष
अपना गाँव है सारा देश

                                        कभी ठंड में ठिठुरते सिकुड़ते
                                        कभी महीनो सागर में तैरते
                                        कभी घने जंगल में भटकते
                                        रक्षा का फ़र्ज़ निभाते रहते

एक बार जो ठान लेते
पीछे मुड़कर नही देखते
आगे आगे बढ़ते जाते
कदम से कदम मिलाकर चलते

                                      जी जान से जंग लढ़े है
                                      कोई गीला शिकायत ना करे है
                                      दुश्मन पर टूट पड़े है
                                     खुदकी भी परवा ना करे है

घर की याद उन्हे भी आती होगी
उनकी आँखे भी नम होती होगी
दो पल उन यादो को संजोकर
नयन पोंछ मुस्कुरा पड़े है

                                       दुश्मन की गोली सिने पर खाई
                                       कतरा कतरा लहू है बहता
                                       आखरी लम्हो में भी कहता
                                       विजयी हो मेरी भारत माता

उनके लिए हमारे नयन भरे है
देश के लिए जो दीवाने हुए है
उन्हे हाथ हमारे,सलामी करते
जिनकी वजह से हम महफूज़ रहते

                                         भारत मा का भी हृदय हिलता है
                                         जब उसका कोई बेटा गिरता है
                                         मर कर भी जो अमर रहता है
                                         ज़माना उन्हे शहिद कहता है.