साथ में हम भी


चिट्ठाजगत अधिकृत कड़ी

1.जाम पर जाम छलकते रहे
आँखों में सपने पनपते रहे
मोहोब्बत-ए-महफ़िल सजी
रात भर शमा जलती रही
तेरा आना इंतज़ार बन गया
साथ में जले हम भी |

2.मध्यम सी चाँदनी बिखरी
चाँद आया,ये रात निखरी
आगोश में समा गयी चाँदनी
प्यार के अरमान हुए रौशन
तूने जो छू लिया हमे अब
साथ में बहके हम भी |
Hindi Blogs. Com - हिन्दी चिट्ठों की जीवनधारा

Submit

top post

वही पलाश के फूल लाना तुम

वही पलाश के फूल लाना तुम

चले जो कभी लहराती हवाये 
काया को मृदुसी छुकर  जाये
हमारी छुअन का आभास कराये
हमारी याद दिल को सताए
बिन बुलाये पास चले आना तुम
जो हमारे प्यार के गवाह सदा  है
साथ वही पलाश के फूल लाना तुम |

कभी जो बहारों का मौसम आये
रंगो से सारी अवनी सज जाये
हमारी ख़ुशबू का आभास जताए
हमसे मिलन को तरसाए
याद कर हमे यूही मुस्कुराना तुम
जो हमारे साथ महके सदा है
साथ वही पलाश के फूल लाना तुम |

कभी जो पुकारे बेसुद घटाए
प्यार की बुन्दो को बरसाए
हमारी बाहो का आभास कराए
हमारी तन्हाई और बढ़ाए
प्यार की सुरीली मेहफ़ील सजाना तुम
जो हमारे संग गाते सदा है
साथ वही पलाश के फूल लाना तुम |

कभी जो नभ पर चाँद आये
अपनी शीतल चाँदनी बिखराये
हमारे अक्स का आभास कराए
हमे देखने जिया मचल जाये
पलको में अपनी हमे बसाना तुम
जो हमारे साथ रौशन सदा है
साथ वही पलाश के फूल लाना तुम |

नयी सुबह आई है

नयी सुबह

जिसका कल से था इंतज़ार
वह नयी सुबह अब आई है
नये साल के साथ है आई
नया आगाज़ संग लाई है |

नयी सुबह से मैं भी
नयी साँसे आज ले रही हूँ
मनका पुराना मलिन चोला
फिर नयासा में धो रही हूँ |

नयी सुबह में फिर मैं
नया जनम आज ले रही हूँ
मन में अंकुरित होने वाले
नये सच्चे बीज बो रही हूँ |

नयी सुबह से आज मैं
पहली किरण ले रही हूँ
मन में प्यार का उजाला करे जो
नये दीप रौशन कर रही हूँ |

नयी सुबह को मैं भी
नया वचन आज दे रही हूँ
हर दिन कुछ अच्छा काम करूँ
नया वादा मैं एसा कर रही हूँ |

नयी सुबह के साथ मैं
नये सपने आज बुन रही हूँ
पुराने उलझे धागे खोलकर
नये सफ़र पर मैं निकल रही हूँ |

top post

शमा जलाकर हम बैठे है

हम सदा ही मुस्कुरा जाते है
आपके हर एक दीदार में |

मोहोब्बत के मोती पिरोए है
आपके हर लफ़्ज-ए- इज़हार में |

इश्क़   के   जाम  छलकते है
आपकी हर मीठि तकरार में |

सहर हमे तन्हा कर गयी है
आपके मिलन की खुमार में |

शमा जलाकर हम बैठे अब है
नयी शाम आने के इंतज़ार में |

चँदनी रात है आभी जाओ

चँदनी रात है

नींबुआ के पीछे छुपा बैठा जो
मध्यम मध्यम मुस्कुराता रहता वो
मेरे सलोने चाँद से सजना
मैं हूँ कितनी पशेमा पशेमा
आज दिल की जमी पर, उतर कर आभी जाओ
चँदनी रात है , अपनी चँदनी तो बरसाओ |

फ़िज़ाए तुमको बुला रही है
रजनीगंधा भी महक रही है
बादलों के पर्दे ज़रा हटाओ
बहकता समा है,नज़र तो आओ
आज दिल की जमी पर, उतर कर आभी जाओ
चँदनी रात है,कोई माधुर रागिनी सूनाओ |

कल तुम चकोर बन जाओगे
अमावस पर गुम हो जाओगे
आज फिर पौर्निमा खिली है
चाँद से चँदनी मिली है
आज दिल की जमी पर, उतर कर आभी जाओ
चँदनी रात है,किरनो की बाहो में छुपाओ |

top post

काश कुछ ऐसा होता

काश कुछ ऐसा होता

सोचती हूँ काश कुछ ऐसा होता
सब कुछ जैसा मैं चाहूं , वैसा होता |

जब मन में कोई ख्वाहिश पनपति
 लक झपकने से पहले परिपूर्ण होती |

फिर ना ही मुझे किसीसे करना पड़ता इज़हार
और ना ही करना होता किसी चीज़ का इंतज़ार \

लेकिन क्या मैं सच में खुश होती
आसानी से मिली सफलता को अपनापाती |

कभी कभी ठीक है अनजाने सफलता पाना
बिना मेहनत किए ही,हर सुख का आना |

मन क्यों फिर,खुद को ही धिक्कारता है
छोटी छोटी बातों पर नाराज़ हो जाता है |

अपने हाथो पाई छोटी चीज़,बहुत बड़ी होती है
वही सच्ची खुशियाँ है,जो उसके बाद आती है |

इस लफ्ज़ ‘काश’ से,कभी ज़िंदगी उलझती है
और लफ्ज़ ‘काश’ से,सपनो की राहे सुलझती है |

top post

वक़्त ही बाकी रह गया है

वक़्त ही बाकी रह गया है

अक्सर सुनती आई हूँ,वक़्त की कमी है |
मेरी आँखों में बस, तेरी यादों की नमी है ||

एक वक़्त था जब,हम लम्हा लम्हा जिये थे |
इश्क़ की मधुरा ,तुम्हारे साथ साथ पिये थे ||

सच कहते है सब,के वक़्त रेत का टीला है |
समझ नही पाए खेल,वक़्त ने जो खेला है ||

वक़्त ही तो था , तुम सावन से आए थे |
वक़्त ने ही बताया , तुम बस साये थे ||

वक़्त ने ही हमारे, इश्क़ का बिगुल बजाया |
वक़्त ने ही हमारे , अरमानो को सजाया ||

ढूँढ रही हूँ आज, वो वक़्त कहा खो गया है |
मुझे ख्वाब से जगाया ,और खुद सो गया है ||

यारा इश्क़ के साथ , मेरा सब कुछ चला गया है |
अब तो एक इंतज़ार, और वक़्त ही बाकी रह गया है ||

top post

दीदार

दीदार

खुश है मेरी बन्नो,आज मधुचंद्र की रात
सज   कर बैठी है
नही करती किसीसे बात

कुछ भी कहो ,गुलाब सी शरमाए 
पलकों को झुकाए,नयनो से मुस्कुराए

शायद मेरी बन्नो,थोड़ी सी इतराए
पवन के छूअन से भी,थोड़ी सी सहराए 

मुखमंडल पर उसकी,चँदनी का तेज
रंगबिरंगी फूलों से महेकती उसकी सेज

ओढ़ के घूँघट हया का
अपने साजन का करती इंतज़ार

हम भी अब चले यहा से
के बन्ना आया है करने
दुल्हने चाँद का दीदार.

top post