saathi re

साथी रे

मेरे हम सफ़र,मेरे हम कदम
जब तेरा साथ हे यहाँ
मेरे सनम,तुमसे ही हे
खूबसूरत मेरा ये जहाँ
सपनोसे सजीला हो अपना आशियाँ
प्यार से भरी हो तेरी मेरी ये दुनिया
अगर कभी आए कोई तूफान
मिलकर करेंगे हम सामना
कभी ना बिछड़े अपना साथ
दिल में लिए ये कामना
चलती रहूंगी संग तेरे में
ज़िंदगी की ये अनगिनत राहे
चाहूं बस अब इतना ही
साथी रे तू भी ये कसम निभाए.

Advertisements