ज़िंदगी

Image and video hosting by TinyPic

लंबी सी रील के जैसी लगे
मानसपटल के कैमेरे में क़ैद

एक लम्हे का सफ़र ज़िंदगी |

=========================

शायद बहुत कुछ खोया ज़िंदगी
एक बस साया सी, तू  जुदा न हुई

तुझे समझने का मौका ,किस्मतवालो कोही तो मिलता है |

Advertisements

लकीरें

लकीरें

माना ये हाथों की लकीरों ने किस्मत के राज़ छुपाए
शातिर है वो,ज़िंदगी के पूरे मोहरे तुम्हे नही दिखाए
चाहत है बाज़ी हो मुट्ठी में,झुझना होगा कुछ इस कदर
तुम कहो उस राह लकीरों के रुख़ खुद ब खुद बदल जाए. |

तकदीर ने कुछ अनकहे फ़ैसले सुनाए

तकदीर ने कुछ अनकहे फ़ैसले सुनाए
कबुल कर उन्हे  सराखों  पर  लिये है |

ये दर्द छलक कही नासूर ना बन जाए
जख्म इस टूटे जिगर के सारे सिये है |

ये  सोचकर कही प्यासे  ना  मर जाए
जाम जहर  के हमने हंस कर पिये है |

जुदा होकर भी ,तेरी  खुशिया ही चाही
दुनिया की रस्मे रिवाज़ अदा किये है |

तुमने मोहोब्बत से कुछ पल ही चुराए
ज़िंदगी के पूरे लम्हे उसे हमने दिए है |