नभ आज दारी आले

नभ आज दारी आले

वेड्या मनास कोण समजावी
उंच उडाले निळ्या आकाशी
सोडून मला एकटेच भरकटले
कदाचित मग थोडे घाबरले
परतिचि मनास वाट दाखवण्या
नभ आज माझ्या दारी आले.

सांगून ते एकते कोणाचे
विचार मांडते सतत स्वतःचे
कितीही त्यास जखडून ठेवा
पण ते पळते , हरवते
परतिचि मनास वाट दाखवण्या
नभ आज माझ्या दारी आले.

जाणत नाही जगाची रीत
मिसळून राहणे हीच प्रित
एकटेच ते गुंगते , रमते
आकाश दुलईत दडपुन जाते
परतिचि मनास वाट दाखवण्या
नभ आज माझ्या दारी आले.

Advertisements

काश कुछ ऐसा होता

काश कुछ ऐसा होता

सोचती हूँ काश कुछ ऐसा होता
सब कुछ जैसा मैं चाहूं , वैसा होता |

जब मन में कोई ख्वाहिश पनपति
 लक झपकने से पहले परिपूर्ण होती |

फिर ना ही मुझे किसीसे करना पड़ता इज़हार
और ना ही करना होता किसी चीज़ का इंतज़ार \

लेकिन क्या मैं सच में खुश होती
आसानी से मिली सफलता को अपनापाती |

कभी कभी ठीक है अनजाने सफलता पाना
बिना मेहनत किए ही,हर सुख का आना |

मन क्यों फिर,खुद को ही धिक्कारता है
छोटी छोटी बातों पर नाराज़ हो जाता है |

अपने हाथो पाई छोटी चीज़,बहुत बड़ी होती है
वही सच्ची खुशियाँ है,जो उसके बाद आती है |

इस लफ्ज़ ‘काश’ से,कभी ज़िंदगी उलझती है
और लफ्ज़ ‘काश’ से,सपनो की राहे सुलझती है |

top post