नादान दील

ये दील अक्सर नादान हरकतें करता है
अचानक ही धड़कना भूल जाया करता है
याद नही रखता अब कुछ और तेरे सिवा
हमारा होकर हमसे बेईमानी करता है |