अमर शहिद-एक सलामी

अमर शहिद-एक सलामी

बरस पर बरस बीत गये
गाँव की मिट्टी को छुए
जब से सैनिक का ध्ररा भेष
अपना गाँव है सारा देश

                                        कभी ठंड में ठिठुरते सिकुड़ते
                                        कभी महीनो सागर में तैरते
                                        कभी घने जंगल में भटकते
                                        रक्षा का फ़र्ज़ निभाते रहते

एक बार जो ठान लेते
पीछे मुड़कर नही देखते
आगे आगे बढ़ते जाते
कदम से कदम मिलाकर चलते

                                      जी जान से जंग लढ़े है
                                      कोई गीला शिकायत ना करे है
                                      दुश्मन पर टूट पड़े है
                                     खुदकी भी परवा ना करे है

घर की याद उन्हे भी आती होगी
उनकी आँखे भी नम होती होगी
दो पल उन यादो को संजोकर
नयन पोंछ मुस्कुरा पड़े है

                                       दुश्मन की गोली सिने पर खाई
                                       कतरा कतरा लहू है बहता
                                       आखरी लम्हो में भी कहता
                                       विजयी हो मेरी भारत माता

उनके लिए हमारे नयन भरे है
देश के लिए जो दीवाने हुए है
उन्हे हाथ हमारे,सलामी करते
जिनकी वजह से हम महफूज़ रहते

                                         भारत मा का भी हृदय हिलता है
                                         जब उसका कोई बेटा गिरता है
                                         मर कर भी जो अमर रहता है
                                         ज़माना उन्हे शहिद कहता है.

हर कवि की कविता

1429907868_9269e01042.jpg 

  हर कवि की कविता

हर कवि की कविता अनमोल होती है
कोहिनूर से भी ना उसका कोई तोल है |

कविता कवि के हृदय के बोल होते है
कोई खरीद नही सकता,ना उसका दाम,ना कोई मोल है |

कवि के जज़्बात जब पन्नो पर उतरते है
अलंकार और शृंगार से वो सजते है |

 कर जब कविता निखरती है
दुल्हन से ज़्यादा खूबसूरत लगती है |

रसिकगनो से जब उसे प्रतिक्रिया मिलती है
उसकी सुंदरता और भी रती है |

उसे दिल से,अर्थ से,भाव से,श्रव करे
इतनी इल्तजा,अनुरोध वो करती है |

कविता हर कवि की इज़्ज़त होती है
नासमझो के सामने प्रस्तुत,वो लज़्ज़ित होती है |

top post