शाम सुहानी सी

Image and video hosting by TinyPic

शाम सुहानी सी

धूप की चादर को हटाकर बिखर गये नीले स्याह से बादल
गरजत बरसात बूँदों का आना ,गालों पर सरका आँख का काजल |

ठंडी हवाओं का नज़दीक से गुज़रना नस नस में दौड़ती सहर
आँधियों का हमे अपने आगोश में लेना दिल में उठता कहेर |

उसी राह से हुआ तेरा आगमन ,एक छाते में चलने का निमंत्रण
नज़दीकियों में खिला खिला मन फिर भी था खामोशी का अंतर |

यूही राह पर कदम चले संग तुम्हारे कभी ना आए वो मंज़िल
बड़ी अजीब सी चाहत ,ख्वाब होते गजब के जो इश्क़ में डूबा हो दिल |

दरवाज़े तक तेरा हमे छोड़ना और मुस्कान में कुछ कोशीशन कहेना
समझ गया दिल वो अनकहे अल्फ़ाज़ और चलते हुए तेरा तोडसा रुकना |

हमशी  कह दू राज़ की बात ,ज़िंदगी की सब से थी  वो शाम सुहानी सी
रब्बा  शुक्रा में जीतने सजदे करूँ कम है उस  वक़्त तूने दुआ कबुल की |

Advertisements

मोहोब्बतें

Image and video hosting by TinyPic

मोहोब्बतें

आँखों से आँखों का फलसफा कहती
खामोशियों में भी मदहोश सी बहती
मोहोब्बतें बन अफ़साना हमारे दिल में रहती
क्यों बदलासा लगता है फ़िज़ायों का वही मौसम
क्यों अपनासा महसूस होता है पराया मन
खुद से भी ज़्यादा उनकी तासीर होती
अदा में शर्माने की तालीम होती
गालों पे लट का गहना सजता
दीवाना दिल पल पल बहका सा मिलता
कैसा जुनून कैसा नशा  जो उतरता नही
तन एक जहाँ में मन बादलों में कही
रब्बा कोई दवा खास बनाई तूने गर
मत देना हमे कभी माँगे भी तो
रहना चाहूं यूही बेहोश पूरे सफ़र |

रब्बा दीदार करा दे

रब्बा दीदार करा दे

रब्बा ये मुझे क्या हुआ है
शायद इश्क़ का बुखार चढ़ा है |

रब्बा मैं सूद बुद खो बैठी
अक्सर मैं बेहोश हूँ रहती |

रब्बा क्यूँ मुझे नींद ना आए
किसकी याद है,जो मुझे सताए |

रब्बा क्यूँ मन उलझ गया है
सबने हमे दीवानी कहा है |

रब्बा कौन है वो काफ़िर बता दे
मिलने जिससे दिल भी रज़ा है |

रब्बा जो मर्ज़ मुझे दिया है
उसके दिल को वही सज़ा दे |

रब्बा अब तो दीदार करा दे
दर्द दिया है , तूही वा दे |

top post