समय भागता रहा

त्रिवेणी

1.समय भागता रहा अपनी रफ़्तार से
कुछ पाने की जिद्द थी मैं भी भागती रही
खुद को ही बहुत अजनबी महसूस कर रही हूँ 

2.हाथियों जितनी बड़ी खुरसियाँ बना कर
निरक्षर नेता बैठे उस पर
और पूरे देश का झूलुस निकालते है

3.टेबल के उपर फाइल का ढेर
टेबल के नीचे हाथों का हेर फेर
मिलकर रिश्वत का पेड़ लगा रहे है

4.मिलावट भरा राशन का सामान  खरीदा
कुछ छूटे पैसे ज़्यादा मिले लौटाए नही वापस
थोड़ी बेईमानी हमने भी सिख ली है ज़माने से

5.पैसों का ढेर लगाओ मंदिर के द्वारे
सबसे पहले दर्शन हो गये हमारे
 भगवान के पास भी वक़्त की कमी है

Advertisements

वक़्त की रफ़्तार

वक़्त की रफ़्तार

वक़्त अपनी रफ़्तार में मुझे भी ढलने दो  
मैं भी एक जर्रा हूँ तेरे लम्हे से गिरा हुआ  |
 
कितनी जल्दी है तुझे,कहाँ पहुँचना है बताओ 
तुम्हे भाग भाग कर पकड़ना नही होता मुझ से 
रुक जा कही,साँस तॉ लेलुँ ज़रा,खुद के खेल ना रचाओ 
तेरे कदमो से कदम मिला कर,कभी मुझे भी चलने दे 
 
वक़्त अपनी रफ़्तार में मुझे भी ढलने दो  
मैं भी एक क़तरा हूँ तेरे लम्हे से मिला हुआ  |
 
कभी तुम धीमे चलते हो,मेरे पीछे रहते हो 
मूड मूड कर देखती रहती हूँ तुझे,के पास आओगे 
छुप जाते हो तुम,जब मुझे किसी का इंतज़ार होता है 
ज़रूरत होगी इस दिल को तेरी,क्या तब साथ रह पाओगे 
 
वक़्त अपनी रफ़्तार में मुझे भी ढलने दो 
मैं भी एक आस हूँ तेरे लम्हे से जुड़ा हुआ  |

हाइकू – समय

हिन्दी में हाइकू लिखने का हमारा ये पहला प्रयास है|

हाइकू – समय

1. रोकना चाहती हूँ                         6. दिल के जज़्बात
समय मुठ्ठी में                                    समय रहते कह दो
    भागता जाए                                      नयना बरसे

2. रेत का  टीला                               7. काम जो करता
    समय का रेला                                 समय को महत्व देता
    फिसलता जाए                                 लक्ष्मी विराजे

3. घड़ी की टिक टिक                       8. इतिहास दोहराता
    समय की कमतरता                         गुजरा समय फिर लाता
    धड़काने तेज़                                     घूमता कालचक्र

4. किसिका नही होता                       9. ज़िंदगी के पहिए
    समय अकेला चलता                         समय की रफ़्तार
    हर क्षण अनमोल                              निशाना मंज़िल

5. किसिको नही मिलता                   10. तूफा को मोड़ दे
    समय से पहले                                   समय में बल है
    खेल नसीबका                                     मेहनत ज़रूरी.