हाल-ए-दिल

हालदिल बयान कर रहे थे जब हम अपना
पाकमोहोब्बत है तुमसे ये मान लिया होता |
किसी भी हद्द से गुजर जाने का जुनून सवार
दावा सच्चा है हमारा कोई इम्तेहान लिया होता |
तेरे आने से पूरे हुए बहुत से अरमान हमारे
कितने रह गये बाकी ये जान लिया होता |
दिल में कभी  जगती वो तन्हाई की हसरत
भीड़ में गर तुमने हमे पहचान लिया होता |
 

 

 

 

Advertisements