चाहत है एक दिन अमीर बनू

चाहत है एक दिन अमीर बनू
सौ गुन वाला कड़वा नीम बनू |

ज़िंदगी का गहरा भंवर देखा
मोह से अनजान फकीर बनू |

दर्द बहुत दिए अपनो को
मरहम लगाता हकीम बनू |

झूठे आसुओं से लुटा जहाँ
मन को संभाले वो नीर बनू |

कर्ज़ कितना चढ़ा मिट्टी का
मर के भी अमर शहीद बनू |

भंवरों सी फूलों में छुपी ‘महक’
कंवल से खिला झील बनू |

Advertisements

ज़िंदगी

Image and video hosting by TinyPic

लंबी सी रील के जैसी लगे
मानसपटल के कैमेरे में क़ैद

एक लम्हे का सफ़र ज़िंदगी |

=========================

शायद बहुत कुछ खोया ज़िंदगी
एक बस साया सी, तू  जुदा न हुई

तुझे समझने का मौका ,किस्मतवालो कोही तो मिलता है |

ए ज़िंदगी

ज़िंदगी

सुबह तड़के
ठंड में सिकुडती बाहें
हाथों में दूध की बोतले लिए
हर दरवाज़े पर दस्तक देती
घूमती है ज़िंदगी
ताकि गहरी नींद में सोनेवालों
को जगाने के लिए
एक प्याला चाय बन सके

स्टेशन के प्लॅटफॉर्म पर
हाथो में ब्रश और कपड़ा लिए
आँखों में आधी नींद भरी
मुख पर थोड़ा काला पोलिश बिखेर
बैठ जाती है ज़िंदगी
और इंतज़ार करती है
किसी सफेद पॉश के जुते साफ़ हो
और मेरे घर का चूल्हा जले

ट्रॅफिक सिग्नल पर
होठों पे मुस्कान
और आँखों में आस लिए
अख़बार  बेचती हुई
भागती है ज़िंदगी
गाडोयोँ के पीछे

खुद की परवाह किए बिना
सोचती है मिर्च मसाला खबर बिके
और उसके घर में तेल आए
तो वो भी कुछ पढ़ सके
दिये के नीचे…..

बहुत एहसासो से

Image and video hosting by TinyPic

बहुत एहसासो से गुज़रे है ज़िंदगी तेरे इशारों पर नाचते हुए
रोटी के एक टुकड़े से प्यारा हमे और कुछ भी नही यही जाना |

 

शाम सुहानी सी

Image and video hosting by TinyPic

शाम सुहानी सी

धूप की चादर को हटाकर बिखर गये नीले स्याह से बादल
गरजत बरसात बूँदों का आना ,गालों पर सरका आँख का काजल |

ठंडी हवाओं का नज़दीक से गुज़रना नस नस में दौड़ती सहर
आँधियों का हमे अपने आगोश में लेना दिल में उठता कहेर |

उसी राह से हुआ तेरा आगमन ,एक छाते में चलने का निमंत्रण
नज़दीकियों में खिला खिला मन फिर भी था खामोशी का अंतर |

यूही राह पर कदम चले संग तुम्हारे कभी ना आए वो मंज़िल
बड़ी अजीब सी चाहत ,ख्वाब होते गजब के जो इश्क़ में डूबा हो दिल |

दरवाज़े तक तेरा हमे छोड़ना और मुस्कान में कुछ कोशीशन कहेना
समझ गया दिल वो अनकहे अल्फ़ाज़ और चलते हुए तेरा तोडसा रुकना |

हमशी  कह दू राज़ की बात ,ज़िंदगी की सब से थी  वो शाम सुहानी सी
रब्बा  शुक्रा में जीतने सजदे करूँ कम है उस  वक़्त तूने दुआ कबुल की |

तुमसे हूँ मैं और मुझसे हो तुम – ज़िंदगी

Image and video hosting by TinyPic

तुमसे हूँ मैं और मुझसे हो तुम वरना तो सब अधूरा 
यही लफ्ज़ बार बार मूड कर हमसे ज़िंदगी कहेती है | 

 

 

सुनो तुम मेरा गीत और मैं तुम्हारी धड़कन में बस जाउँ
बन जाए ऐसी धुन जिस में जीवन की नदिया मिलती है | 

 

 

साँसों में उसकी खुशबू घुली सी , ज़ुबान पर बन मिठास
आँखों में नमकिन सा पानी का झरना बन के रहती है | 

 

 

वैसे  कदम से कदम मिलाकर चलती ,पल पल का बंधन
जब  ज़रूरत महसूस होता साथ,तो  नज़रों से छिपती है | 

 

 

पशेमा पशेमा हो ये मन ढूंढता है उसे अंधेरो उजालो में
किसी कोने से झाकति ,मंद मुस्काती खिलती,बहती है |

 

 

 

 

 

 

 

 

अजीब सी राहें

अजीब सी राहें

ज़िंदगी में कितनी
अजीब सी राहें शामिल है
तुम भी गुज़रे उनपर
हम भी चले है
दुआयें माँगी उसकी
दरबार में,बुल हुई
नेमतमुलाकात में
तेरे निशान मिले है |

रिवाइवल

कुछ लोगो की टीम
ग्लव्स में खून से सने हाथ
महसूस करते है खून  की गर्माहट को
किसी ज़िंदगी को बचाने की कोशिश
नब्ज़ की धीमी रफ़्तार,साँसों की उलझन
उसकी रुकती धड़कन मौत की सीढ़िया चढ़ती,
हमारी भागती धड़कन ,और तेज 
होती है उसे पकड़ने के लिए
ऑक्सिजन,इनट्यूबेशन
ब्लड की लाइन,लाइफ सेविंग इंजेक्षन्स
सी.पी.आर,कारडीयाक शॉक्स
.सी.में छूटते पसीने
दस मिनट से आधे घंटे तक की ये लढाई

मौत से जीतने की कोशिश
किसी ज़िंदगी को महफूज़ रखने के लिए
उसके साथ पल पल मरती कई ज़िंदगियाँ
कभी  कामयाबी मिलती है 
कभी मौत का पलड़ा भारी
और सब खामोश….
अब तो आदत सी हो गयी है 

मौत से दो हाथ करने की
वो हस कर ज़िंदगी ले जाती है
हर बार,अक्सर
और हमे सवेदना हीन बना जाती है

(

 

 

 

आज मौत का सामना पोस्ट पढ़ी,यूही ख़याल आया हम तो  जाने कितनी बार
,
कभी कभी रोज इस पल का सामना करते है, जाने कितनी बार मौत से लढ़ते है,
कभी जीत होती है,अक्सर हार भी,कबुल इंतना करते है की कोशिश जी तोड़ होती है,
जीत का जश्न भी होता है,मगर खामोशी का अफ़सोस करने के लिए शायद समय नही 
होता,कोई और ज़िंदगी इंतजार कर रही होती है,और हम खुद को सवेदना हीन होने
का गुनहगार समझ कर आगे निकल जाते है | )

 

 

 

तेरे वजूद का एहसास

Image and video hosting by TinyPic

अपने आप में खोई,अकेली ही खड़ी थी | न जाने किस सोच में डूबी थी | 
लंबे घने गेसुओं को उसकी ,बहती हवा भी छूने को मचल पड़ी | कभी यूही 
ल़हेरा के छोड़ देती,कभी एक लट का टुकड़ा उसकी मुख मंडल पर रख देती | 
मगर वह  ईन अटखेलियों  से जुदा बनी रही | जान बुझ कर या अनजाने में
शायद उसे भी नही पता था | 

     सूरज की गुनगुनी धूप में उसका चहेरा जगमगा तो रहा था,मगर उस पर कोई 
भाव नही परावर्तित हो रहे थे | लगा एक कदम आगे बढ़कर क्यूँ न गुफ्तगू कर ले |
उसकी तल्लिनता भंग करने का साहस नही जुटा पाई | क्या वह खूबसूरत तराशा 
हुआ बुत मात्र है,जो जीवित हो कर भी सवेदना हीन होती है | नही ऐसी तो कोई बात 
नही लग रही |

  चाहे उसपर किसी और बात का असर न हो रहा हो,बदलते रुत का,मौसम के
 रुख़ का असर हो रहा था | जैसे उसके दिलदार का पैगाम हो उन में,और वह हर
बात सुनकर ,मुख की बदलती रंग छटा से  उसका जवाब दे रही हो |

   कही से अचानक ही रुई से लबालब बादल इकट्ठा होने लगे थे | उसके मुख की
रेखायें तनी सी खीची सी लगने लगी | हल्का गुलाबी गोरा रंग उनके काले स्याह
रंग में घुल गया | कुछ ज़ोर ज़ोर की आवाज़े और उसका बढ़ता तनाव,जैसे
सारे जहाँ की चीता में डूब गयी हो | ज़्यादा देर नही चला ये सब,किसी ने रुई की
फाहो को निचोड़ दिया होगा | उस में भरा पानी छम छम करता धरा की गोद में बहने
लगा | पैरों के नीचे से गुज़रते ठंडे स्पर्श ने उस पर सम्मोहन सा जगाया ,या सवेदना
का चुबक लगाया न जानू | वह मदहोश सी मुस्कुरा उठी |

    जब बादलों के पर्दों से किरनो का रथ निकला ,सारी सृष्टि पाचू के रंग सज गयी |
सुरभी के सुवास से मन पटल के द्वार खोल दिए | गगन का इंद्रधनु पूरे क्षितिज पर 
बिखर  पड़ा | फूलों पर जमी बूँदों में खुद को निहारती वह खिलखिला कर हस दी |
उसके हर बदलते रूप और भाव के साथ मैं भी जुड़ गयी थी अब तक | साथ कुछ पल
का ही ,एक रिश्ते में बदल गया हो जैसे | वो जैसी भी है मैं ने अपना लिया उसे | कभी
मासूम बच्चे सी ज़िद करती है,कभी अल्लड़ सी दौड़ती है,कभी समझदारी की बातें भी 
करती है | वो है तो मेरा ही हिस्सा | तुमसे मुझे प्यार है नाआशना | ज़िंदगी मुझे  
तेरे वजूद का एहसास है अभी |

ज़िंदगी का हर कदम

ज़िंदगी का हर कदम तेरे साथ चलते है
हर लम्हा तुझ संग बिताने हम मचलते है
डर है तू सफ़र में कही आगे न निकल जाए
इसलिए जानम तेरी तरक्की से जलते है |

« Older entries